Agnipath Scheme : अग्निवीर के लिए अग्निपथ सही, देश की 4 साल सेवा, फिर 23 लाख लेकर यह बेहतरीन विकल्प!

116
Agnipath Scheme: Agnipath is right for Agniveer, serving country for 4 years, then this is best option by taking 23 lakhs!

Agnipath Scheme : सेना की नौकरी, समाज में मान सम्मान, सेवानिवृति के बाद भी हैसियत भरी शानदार जिंदगी। यह भी कहा जाता है कि हर किसी को देश की सेवा करने का मौका नहीं मिलता। लेकिन अब सरकार के नए भर्ती फॉर्मूले ने हंगामा खड़ा कर दिया है।

सरकार कह रही है कि इससे युवाओं में देश प्रेम बढ़ेगा। सरकार ने अग्निपथ योजना को गेम चेंजर बताया है। इससे सेना भविष्य की चुनौतियों से बेहतर तरीके से निपट सकेगी।

दरअसल, ‘अग्निपथ योजना’ (Agnipath Scheme) के तहत थल सेना (Army), नौसेना (Navy) और वायुसेना (Air Force) में जवानों की भर्ती होगी। उनकी रैंक मौजूदा रैंक से अलग होगी और उन्हें ‘अग्निवीर’ (Agniveer) कहा जाएगा।

इस योजना के तहत हर साल करीब 40-45 हजार युवाओं को सेना में शामिल किया जाएगा। इन युवाओं की उम्र साढ़े 17 साल से 21 साल के बीच होगी।

रोजगार के मोर्चे

रोजगार के मोर्चे पर केंद्र सरकार की सबसे ज्यादा आलोचना हुई है। इसलिए इस योजना के माध्यम से युवाओं को बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। इसके साथ ही भर्ती प्रक्रिया में बदलाव लाने की भी तैयारी है।

सरकार पूरी तैयारी के साथ सामने आई है। सेना में भर्ती के लिए 90 दिन में पहली भर्ती रैली होगी। शुरुआती चरण में आर्मी के लिए 40,000, नेवी के लिए 3000 और एयरफोर्स के लिए 3,500 की भर्ती होगी।

अग्निपथ योजना का देश के कुछ हिस्सों में विरोध हो रहा है। छात्रों का कहना है कि 4 साल में ही मिलेगा नौकरी का मौका, उसके बाद क्या होगा?

इसके जवाब में सरकार का कहना है कि ज्यादातर युवा 12वीं के बाद स्किल ट्रेनिंग या उच्च शिक्षा लेते हैं और फिर नौकरी की तलाश करते हैं।

अग्निवीर को मिलने वाली सैलरी

हम युवाओं को एक साथ तीन मौके दे रहे हैं। उन्हें अच्छा वेतन मिलेगा, चार साल में अच्छा बैंक बैलेंस होगा। साथ ही उन्हें जॉब के दौरान स्किल ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

उन्हें राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत दिए जाने वाले औपचारिक प्रशिक्षण के लिए क्रेडिट प्वाइंट मिलेंगे। इससे वे चार साल बाद उच्च शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं। वह और अधिक आत्मविश्वास के साथ चार साल के लिए सेना में जाएंगे।

अंत में बात पैसों की ही आती है। बेरोजगारी के संदर्भ में अग्निवीर को जो वेतन दिया जाएगा वह ठीक है। 4 साल की नौकरी में कुल 23 लाख 43 हजार 160 रुपए मिलेंगे। जिसमें हर महीने की सैलरी के अलावा रिटायरमेंट फंड भी शामिल है।

कितना लाभदायक?

अग्निवीर को चार साल की नौकरी में पहले साल 30,000 रुपये मासिक वेतन मिलेगा। दूसरे वर्ष 33000 रुपये प्रति माह, तीसरे वर्ष में 36,5000 रुपये और चौथे वर्ष में 40,000 रुपये।

इसमें हर माह वेतन से 30 प्रतिशत राशि काटी जाएगी और उतनी ही राशि सरकार देगी। वेतन के अलावा, जोखिम और कठिनाई भत्ता, राशन भत्ता, पोशाक और यात्रा भत्ता मिलेगा। आसान भाषा में कहें तो खाना-पीना, इलाज और रहन-सहन सब मुफ्त है।

सब कुछ यानी रिटायरमेंट फंड काटकर खाते में जमा कर दी जाएगी ये रकम

  1. पहला साल- 21,000×12= 2,52,000
  2. दूसरा वर्ष- 23,100×12= 2,77,200
  3. तीसरा वर्ष- 25,580×12= 3,06,960
  4. चौथा वर्ष- 28,000×12= 3,36,000

इस तरह अग्निवीर को चार साल की नौकरी के दौरान कुल 11,72,160 रुपये वेतन मिलेगा। खास बात यह है कि नौकरी के दौरान अगर अग्निवीर चाहें तो पूरी सैलरी बचा सकते हैं। क्योंकि सेना की तरह सुविधाएं मिलेंगी।

जिसमें खाना, रहना और इलाज मुफ्त है। वर्दी भी उपलब्ध है। ऐसे में युवा अपने सपनों को साकार करने के लिए वेतन के रूप में मिलने वाली राशि को भी बचा सकते हैं। युवाओं के सामने 4 साल में 23 लाख 43 हजार 160 रुपए कमाने का सुनहरा मौका होगा।

आपको बता दें, 21 से 24 साल की उम्र में अग्निवीर को राहत मिलेगी। लेकिन इस उम्र में सरकार की ओर से एकमुश्त 11,72,160 रुपये मिलेंगे। इसमें कोई इनकम टैक्स नहीं लगेगा। जिसे आप रिटायरमेंट फंड कह सकते हैं।

क्योंकि आधा योगदान अग्निवीर का होगा, और आधा सरकार द्वारा दिया जाएगा। साथ ही वेतन के रूप में मिलने वाली राशि की भी बचत की जाए। जिससे वे अपने सपने साकार कर सकें। आप उच्च शिक्षा सहित अपने व्यवसाय का निर्माण कर सकते हैं।

सरकार ने गिनाए फायदे

इन अग्निशामकों में से अधिकतम 25 प्रतिशत को ही बाद में स्थायी होने का मौका दिया जाएगा। यानी 4 अग्निवीर में से एक को ठोस नौकरी मिलेगी।

सरकार के मुताबिक, जो युवा 4 साल सेना में रहकर लौटे हैं, वे दूसरों की तुलना में नौकरी पाने के अधिक पात्र होंगे। गृह मंत्रालय 4 साल बाद सीएपीएफ और असम राइफल्स में भर्ती में अग्निवीरों को प्राथमिकता देगा।

बड़ी कंपनियों ने एग्निवर्स को नौकरी देने का ऐलान किया है। एग्निवर्स के लिए 4 साल में ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स होगा। ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स की मान्यता देश-विदेश में की जाएगी।

सेवा के दौरान यदि कोई अग्निवीर वीरगति प्राप्त होती है तो उसके परिवार को एक करोड़ की सहायता राशि मिलेगी। इसके साथ ही परिवार को अग्निवीर की शेष सेवा का वेतन भी मिलेगा।

वहीं अगर सेवा के दौरान अग्निवीर विकलांग हो जाता है तो उसे 44 लाख की राशि दी जाएगी और शेष सेवा का वेतन भी मिलेगा।

युवाओं की सबसे बड़ी चिंता यह है कि वे चार साल बाद क्या करेंगे? चार साल बाद वह फिर से बेरोजगार हो जाएगा और उसे न तो वेतन मिलेगा और न ही पेंशन।

ALSO READ