Agniveer Recruitment : सेना में भर्ती होने के लिए धर्म परिवर्तन किया, दस्तावेजों की जांच में पकड़ा गया आरोपी, मामला दर्ज

49
Agniveer Recruitment

Agniveer Recruitment: उत्तर प्रदेश के बरेली से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। चल रही अग्निवीर भर्ती में जांच के दौरान दो युवकों को पकड़ा गया। ये युवक फर्जी दस्तावेज बनाकर अग्निवीर भर्ती के लिये आए थे।

उन्होंने सेना में शामिल होने के लिए अपना धर्म भी बदल लिया। बता दें कि आगरा के रहने वाले ये दोनों युवक बायोमेट्रिक टेस्ट के दौरान पकड़े गए थे।

जब संदेह के आधार पर उनके दस्तावेजों की जांच की गई तो उनका नाम, जाति, पता और यहां तक ​​कि उनका धर्म भी फर्जी निकला। जांच में सामने आया है कि जिले में चल रही अग्निवीर भर्ती को देखने के लिए दोनों युवकों ने फर्जी कागजात बनवाए थे।

Agniveer Recruitment: Changed religion to join the army, accused caught in scrutiny of documents, case registered

फिलहाल दोनों युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर पुलिस को सौंप दिया गया है, साथ ही सेना के अधिकारी भी मामले के अन्य पहलुओं पर भी जांच कर रहे हैं।

बरेली में अग्निवीर भर्ती के तहत जाट रेजीमेंट की भर्ती प्रक्रिया चल रही है। जहां जिले के युवा सेना में भर्ती होने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

भर्ती मैदान में दस्तावेज सत्यापन और बायोमेट्रिक सत्यापन चल रहा था जहां ये दोनों आरोपित पकड़े गए। आपको बता दें कि इन्हीं में से एक हैं अरुण खान जिन्होंने भर्ती देखने के लिए अपना धर्म बदलकर धर्मराज कर लिया था।

वहीं दूसरे आरोपी का नाम फाल सिंह है, जिसने अपना नाम रंजीत सिंह बताया है। बता दें कि बरेली में चल रही अग्निवीर भर्ती को देखने के लिए इन आरोपियों ने जाली दस्तावेजों का सहारा लिया था और नाम, पता, उम्र, जाति और धर्म भी बदल लिया था।

अपना नाम रंजीत बताने वाले फाल सिंह नाम के आरोपी ने जांच में पाया कि उसने 2021 में मोनू चौधरी के नाम से सेना में भर्ती देखी थी।

फिंगरप्रिंट सेंसर द्वारा पकड़ा गया

आगरा निवासी मोनू और अरुण खान की फर्जी दस्तावेजों के सहारे सेना में भर्ती होने की इच्छा अधूरी रह गई। जांच प्रक्रिया के दौरान जब दोनों का बायोमेट्रिक टेस्ट (अंगूठे का निशान और आंखों की पहचान) कराया गया तो मामला फर्जी निकला।

जिसके बाद दोनों को पकड़कर कैंट थाने को सौंप दिया गया। बरेली एसपी सिटी ने बताया कि गिरफ्तार युवकों में से एक का नाम अरुण खान है और वह आगरा के खंडौली का रहने वाला है जबकि दूसरा युवक फाल सिंह भी खंडौली गांव का रहने वाला है।

उन्होंने बताया कि ये दोनों आरोपी फर्जी आधार कार्ड, मार्कशीट और जाति प्रमाण पत्र की मदद से सेना में भर्ती होने की कोशिश कर रहे थे।

बरेली एसपी सिटी ने बताया कि दोनों को बायोमेट्रिक जांच के दौरान पकड़ा गया और इनके खिलाफ धारा 420, 467,468,471 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

आर्मी इंटेलिजेंस भी जांच में जुटा

बरेली के अग्निवीर भर्ती में चल रही जाट रेजीमेंट के लिए अग्निवीर भर्ती में दो युवकों के पकड़े जाने के बाद सेना की इंटेलिजेंस भी सक्रिय हो गई है और मामले की अपने स्तर पर जांच कर रही है।

आर्मी इंटेलिजेंस इस बात की भी जांच कर रही है कि फर्जी दस्तावेज लगाकर सेना में भर्ती होने आए इन गिरफ्तार युवकों की मंशा क्या थी। आर्मी इंटेलिजेंस हर स्तर पर मामले की जांच कर रही है।

सेना भर्ती में पहले भी हो चुके हैं फ्रॉड

आपको बता दें कि यह पहला मामला नहीं है जब सेना भर्ती में इस तरह की फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है। आमतौर पर सेना की हर भर्ती में ऐसे मामले देखने को मिलते हैं।

जहां किसी दूसरे जिले के युवा सेना में भर्ती होने के लिए फर्जी दस्तावेजों का सहारा लेते हैं। बता दें कि इससे पहले उत्तराखंड में भर्ती के दौरान बुलंदशहर निवासी ताहिर नाम का युवक पकड़ा गया था।

जो जाली दस्तावेज बनाकर सेना में भर्ती देखने आया था. वहीं, हरियाणा में फर्जी दस्तावेज लगाकर भर्ती की तलाश में 14 लोगों को पकड़ा गया।