Agri Business : इस फूल की खेती से कमा सकते हैं अच्छा मुनाफा, जानें बुवाई से लेकर कटाई तक की पूरी जानकारी

199
Sunflower is cultivated in these states of India

Agri Business: रबी सीजन शुरू हो गया हैइस मौसम में मुख्य रूप से ज्वार और गेहूं की खेती की जाती है। हालांकि, पिछले कुछ समय से किसान इन फसलों के माध्यम से वांछित लाभ अर्जित नहीं कर पा रहे हैं। 

अगर आप कम समय में अच्छा पैसा कमाना चाहते हैं। तो आज हम आपको एक ऐसा बिजनेस आइडिया देने जा रहे हैं जिससे आप घर बैठे अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

दरअसल हम जिस बिजनेस आइडिया की बात कर रहे हैं वह है सूरजमुखी (Sunflower Cultivation) की खेती, तो आइए जानते हैं इस फूल की खेती से जुड़ी जरूरी बातें।

सूरजमुखी (Sunflower Cultivation) की खेती भारत के इन राज्यों में की जाती है

सूरजमुखी की खेती: सूरजमुखी को तिलहन फसलों की एक श्रेणी माना जाता है। इसकी व्यापक रूप से कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और बिहार में खेती की जाती है।

इसके लिए रेतीली दोमट मिट्टी और काली मिट्टी सबसे उपयुक्त मानी जाती है। इसके अलावा मिट्टी का पीएच 6.5 से 8.0 के बीच होना चाहिए। सूरजमुखी की खेती के लिए खेत को तैयार करने के लिए लगभग 2-3 जुताई की आवश्यकता होती है।

सूरजमुखी, “हेलियनथस” नाम ‘हेलिओस’ से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘सूर्य’ और ‘एंथस’ का अर्थ ‘फूल’ है। इसे सूरजमुखी कहा जाता है क्योंकि यह हमेशा अपनी सीधी किरणों की ओर सूर्य का अनुसरण करता है।

यह देश की एक महत्वपूर्ण तिलहन फसल है। सूरजमुखी का तेल अपने हल्के रंग, नरम स्वाद, उच्च धूम्रपान बिंदु और उच्च स्तर के लिनोलिक एसिड के कारण सबसे लोकप्रिय है जो हृदय रोगियों के लिए अच्छा है।

सूरजमुखी के बीजों में लगभग 48-53 प्रतिशत खाद्य तेल होता है। 1969-70 में खाद्य तेल की कमी के बाद भारत में इसे उगाया गया है।

तिलहन फसलों में सूरजमुखी का विशेष स्थान है। यह हमारे देश में मूंगफली, सरसों, रेपसीड और सोयाबीन के बाद एक विशेष तिलहन फसल भी है।

बुवाई का समय Time of sowing

सूरजमुखी की बुवाई जनवरी के अंत तक कर लेनी चाहिए। यदि आप इसे फरवरी में बो रहे हैं तो बीज का प्रयोग न करें, क्योंकि इससे उपज कम हो सकती है। प्रत्यारोपण तकनीक का प्रयोग करें।

पौधे से पौधे की दूरी Plant to Plant Distance

पौधे से पौधे की दूरी 30 सेमी रखें। वहीं, पंक्ति-से-पंक्ति की दूरी 60 सेमी रखना सबसे उपयुक्त है।

बीज मात्रा Seed Quantity

4 किलो उन्नत किस्म के बीज और 1.5 से 2 किलो हाईब्रिड किस्म प्रति एकड़ बीज की मात्रा पर्याप्त होती है।

बीज उपचार विधि Seed Treatment Method

सूरजमुखी के बीजों को लगभग 5 से 6 घंटे के लिए भिगो देना चाहिए। ऐसा करने से बीज जल्दी अंकुरित हो जाएंगे। ध्यान रहे कि बीजों को भीगने के बाद छाया में अच्छी तरह सुखा लें।

इसके साथ ही अगर किसान बीज उपचार भी करें तो फसल को बीज जनित रोगों से बचाया जा सकता है। डाउनी फफूंदी से बचाव के लिए बीज पर थीरम 2 ग्राम प्रति किग्रा और मेटलैक्सिल 6 ग्राम प्रति किग्रा की स्प्रे करें।

खेत की तैयारी Farm Preparation

खेत की तैयारी के लिए मिट्टी पलटने वाले हल से गहरी जुताई की जाती है। खेत में मौजूद घास और डंठल आदि को इकट्ठा करके जला देना चाहिए। खेत की मिट्टी को भुरभुरा बनाने के लिए हैरो को 2-3 बार चलाना चाहिए। हर जुताई या हैरो के बाद नमी बचाने के लिए मिट्टी को खड़ा करना जरूरी है।

सिंचाई Irrigation

रबी मौसम में उगाई जाने वाली फसल के लिए आमतौर पर 3-4 सिंचाई की आवश्यकता होती है। यह सिंचाई बुवाई के 40, 60 और 90 दिनों के बाद करनी चाहिए। जायद मौसम की फसल को अधिक पानी की आवश्यकता होती है।

कुल 6 से 7 सिंचाई करनी पड़ती है। बार-बार सिंचाई करने से बचें, क्योंकि इससे जड़ सड़ने और मुरझाने का खतरा बढ़ सकता है। भारी मिट्टी को 20-25 दिनों के अंतराल पर सिंचाई की आवश्यकता होती है। हल्की मिट्टी की आवश्यकता 8-10 दिनों के अन्तराल पर होती है।

पौधों की वृद्धि के लिए आवश्यक टिप्स Essential Tips for Plant Growth

मधुमक्खियां सूरजमुखी की फसल की आदर्श परागणक होती हैं। यदि मधुमक्खियां नहीं हैं, तो वैकल्पिक दिनों में सुबह-सुबह हाथ से परागण करना सबसे अच्छा है।

इसके अलावा फसल की खेती के शुरूआती 45 दिनों में खेत को खरपतवारों से मुक्त रखना चाहिए। ऐसा करने से आपकी फसल की वृद्धि में तेजी आएगी।

फसल कटाई का समय Harvest Time

कटाई की प्रक्रिया तब शुरू होती है जब पौधे की सभी पत्तियाँ सूख जाती हैं और सूरजमुखी के सिर का पिछला भाग पीला हो जाता है। देरी से दीमक का हमला हो सकता है और फसल को नुकसान हो सकता है।

कमाई Earning

आपको बता दें कि आयुर्वेद में इसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाता है। इस पौधे के तेल का उपयोग दवा के लिए किया जाता है। इसलिए इसकी खेती किसानों के लिए काफी लाभदायक साबित होती है।