Bamboo Farming : बांस की खेती से कमा सकते हैं लाखों, सरकार भी देती है सब्सिडी

158
Bamboo Farming: You can earn lakhs from bamboo cultivation, the government also gives subsidy

Bamboo Farming Tips, Profit : भारत एक कृषि प्रधान देश है। यहां एक बड़ी आबादी खेती करके अपना भरण-पोषण करती है। सालों से किसान सिर्फ खेती-बाड़ी कर अपना घर चला रहा है।

इसके बावजूद उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। क्योंकि भारत में खेती को बहुत लाभदायक नहीं माना जाता है। पूर्व में कई किसान कर्ज और कभी फसल खराब होने के कारण आत्महत्या कर चुके हैं।

हालांकि कई किसान खेती करके लाखों-करोड़ों रुपये भी कमाते हैं। फसलें कई प्रकार की होती हैं, जिनकी मदद से किसान अपनी आय बढ़ा सकता है।

इसी तरह कई तरह के पेड़ों की मांग भी बाजार में काफी ज्यादा होती है और इसकी लकड़ी के लिए अच्छी खासी रकम मिल जाती है.

ऐसी ही एक खेती है बांस की (How to do Bamboo Farming) जिसमें मेहनत बहुत कम और कमाई बहुत ज्यादा होती है, बांस की फसल करीब 40 साल तक बांस देती रहती है।

इस फसल के लिए सरकार द्वारा सब्सिडी भी दी जाती है। बांस उन कुछ उत्पादों में से एक है जिनकी निरंतर मांग है।

कागज के अलावा निर्माता बांस का उपयोग कार्बनिक कपड़े बनाने के लिए करते हैं जो कपास की तुलना में अधिक टिकाऊ होते हैं।

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बांस मिशन

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बांस योजना की शुरुआत की गई है, जैसा कि आप जानते हैं, भारत में प्लास्टिक को रोकने के लिए सरकार ने प्लास्टिक को भी बंद कर दिया है।

लेकिन लोगों को इसकी आवश्यकता है जिसके कारण अभी भी प्लास्टिक का उपयोग किया जा रहा है, सरकार ने हल किया है राष्ट्रीय बांस योजना लाकर यह समस्या।

प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करने या प्लास्टिक के इस्तेमाल को पूरी तरह खत्म करने के लिए बांस एक बेहतरीन तरीका है। बांस बहुत सारी सामग्री बना सकता है जिसका उपयोग प्लास्टिक सामग्री के स्थान पर किया जा सकता है।

हमें राष्ट्रीय बांस मिशन / राष्ट्रीय बांस मिशन की आवश्यकता क्यों है

अब अगर आप भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत लाभ लेना चाहते हैं या राष्ट्रीय बांस मिशन से जुड़ना चाहते हैं तो हम आपको इसकी जानकारी भी देने जा रहे हैं।

अगर आप इस मिशन से जुड़ना चाहते हैं और एक अच्छा बिजनेस सेटअप शुरू करना चाहते हैं तो यह मिशन आप लोगों के लिए बहुत अच्छा हो सकता है।

क्योंकि यही एक तरीका है जिससे प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम किया जा सकता है और इसके कारण प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जा सकता है। भी पूरी तरह से समाप्त कर दिया जाए।

प्लास्टिक का अधिक उपयोग हमारे पर्यावरण के लिए हानिकारक है। सरकार राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत बांस की खेती और उसके कारोबार को काफी बढ़ावा दे रही है।

सरकार द्वारा बांस की खेती और व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक जिले में एक अधिकारी को तैनात किया गया है। बंबू मिशन कृषि, वन और उद्योग विभाग को सौंपा गया है।

मैं खेती कैसे कर सकता हूँ?

बांस को बीज, कलमों या प्रकंदों से लगाया जा सकता है। इसके बीज अत्यंत दुर्लभ और महंगे होते हैं। पौधे की लागत बांस के पौधे की किस्म और गुणवत्ता पर भी निर्भर करती है।

प्रति हेक्टेयर लगभग 1500 पौधे लगाए जा सकते हैं। इसकी फसल करीब 3 साल में तैयार हो जाती है और इस दौरान इसकी कीमत लगभग 250 रुपये प्रति पौधा होती है।

1 हेक्टेयर से आप लगभग 3-3.5 लाख रुपये कमाएंगे। इसकी खेती की सबसे अच्छी बात यह है कि बांस की फसल 40 साल तक चलती है।

खेती के लिए भूमि

इसकी खेती के लिए जमीन तैयार करने की जरूरत नहीं होती है। बस इस बात का ध्यान रखें कि मिट्टी ज्यादा रेतीली न हो। आप इसे 2 फीट गहरा और 2 फीट चौड़ा गड्ढा खोदकर ट्रांसप्लांट कर सकते हैं।

साथ ही बांस की रोपाई के समय गाय के गोबर की खाद का प्रयोग किया जा सकता है। रोपाई के तुरंत बाद पौधे को पानी दें और एक महीने तक रोजाना पानी दें। 6 महीने बाद हफ्ते दर हफ्ते इसे पानी दें।

बांस कितने वर्षों में खेती के लिए तैयार होता है?

आमतौर पर बांस की खेती 3 से 4 साल में तैयार हो जाती है। इसकी कटाई चौथे वर्ष से शुरू कर देनी चाहिए। खेती के दौरान बांस के दो पौधों के बीच 3 से 4 मीटर की दूरी होनी चाहिए।

आप चाहें तो बीच-बीच में अन्य फसलों की भी खेती कर सकते हैं। बांस के पत्तों का उपयोग पशुओं के चारे के रूप में भी किया जा सकता है। बांस की खेती से पर्यावरण भी सुरक्षित है।

आज के आधुनिक समय में भी बांस से बने फर्नीचर की काफी डिमांड है। यही कारण है कि इसकी खेती करने वाले किसानों को अच्छा मुनाफा मिलता है।

किसान आवश्यकता और प्रजाति के अनुसार एक हेक्टेयर भूमि में 1500 से 2500 पौधे लगा सकता है। बाँस की कलियाँ सबसे पहले बिक्री के लिए तैयार हैं।

मौसम

अत्यधिक ठंडे स्थानों में बांस की खेती नहीं की जाती है। इसके लिए गर्म जलवायु परिस्थितियों की आवश्यकता होती है, लेकिन 15 डिग्री से नीचे का मौसम बांस के लिए उपयुक्त नहीं होता है।

आज भारत का पूर्वी भाग बांस का सबसे बड़ा उत्पादक है। बांस ज्यादातर वन क्षेत्रों में उगाया जाता है और 12% से अधिक वन क्षेत्र बांस है। कश्मीर की घाटियों को छोड़कर कहीं भी बांस की खेती की जा सकती है।

चार साल में 40 लाख रुपए की बांस 

रोपण के चौथे वर्ष से, प्रति वर्ष कम से कम 10 बांस लगभग 40 फीट की ऊंचाई तक बढ़ते हैं। इस तरह 40 हजार पौधों से उतनी ही संख्या में बांस मिलते हैं।

100 रुपये प्रति बांस बिकता है। उनकी बिक्री से लाभार्थी को 40 लाख रुपये की फसल मिल सकती है। बांस खरीदार के खेत से फसल लेकर परिवहन खर्च भी नहीं होता है।

अन्य फसलों का एक साथ उत्पादन

बांस की पंक्तियों के बीच में मिर्च, शिमला मिर्च, अदरक और लहसुन की फसलें उगाई जा सकती हैं। बांस की कतार में इन फसलों में पानी कम होता है और गर्मियों में इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता है, जिससे उत्पादन अच्छा होता है।

इस तरह मिलती है सब्सिडी

बांस की खेती करने पर लाभार्थी को तीन साल में प्रति पौधा 120 रुपये की सब्सिडी मिलती है। पहले साल 60 रुपये, दूसरे साल 36 रुपये और तीसरे साल 24 रुपये का अनुदान मिलता है।

बांस की खेती के लिए सरकार कैसे मदद करती है?

बांस की खेती पर 3 साल में औसतन 240 रुपये प्रति पौधा खर्च होता है। इसमें से 120 रुपये प्रति प्लांट की सरकारी सहायता दी जाएगी।

बांस की खेती पर होने वाले खर्च का 50 फीसदी सरकार और 50 फीसदी किसान वहन करते हैं. सरकारी परिवहन में केंद्र सरकार की हिस्सेदारी 60 प्रतिशत और राज्य सरकार की 40 प्रतिशत है। इसकी पूरी जानकारी आप अपने जिले या नोडल अधिकारी से प्राप्त कर सकते हैं।

बांस की सही किस्म का चुनाव करना जरूरी

बाँस की लगभग 136 प्रजातियाँ हैं, जिनमें बाँस का प्रयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जाता है। आमतौर पर बांस की 10 किस्मों का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है।

खेती शुरू करने से पहले, आपको यह चुनना होगा कि आप किस प्रकार के बांस की खेती करना चाहते हैं। मान लीजिए आप फर्नीचर के लिए बांस की खेती कर रहे हैं, तो उससे संबंधित प्रजातियों को चुनें।

यह किस तरह का काम करता है?

आधुनिक समय में भी बांस का प्रयोग कई तरह से किया जाता है। इसका उपयोग निर्माण के लिए किया जाता है। घर भी बांस से बनते हैं।

बांस से फर्श का काम, फर्नीचर बनाना, हस्तशिल्प आदि की कमाई की जाती है। ग्रामीण क्षेत्रों में हर मौसम में बांस की मांग रहती है।

आप लोग भली-भांति जानते हैं कि हमारे दैनिक जीवन में बांस का कितना उपयोग होता है, यदि आप ग्रामीण इलाकों से बिल लेते हैं, तो आप इससे अच्छी तरह वाकिफ होंगे।

आजकल बांस से पानी की बोतलें भी बनाई जा रही हैं, बांस से भी बहुत अच्छा फर्नीचर बनाया जा रहा है, बांस से हस्तशिल्प की वस्तुएं भी बनाई जा रही हैं, और इससे आभूषण आदि वस्तुएं भी बनाई जा रही हैं.

प्लास्टिक के उपयोग को कम करने के लिए या प्लास्टिक के उपयोग को खत्म करने के लिए बांस से बनी इन चीजों का उपयोग भी बढ़ रहा है।

लोग इसे पसंद करने लगे हैं, ऐसे में नेशनल बैंबू मिशन मे डील से जुड़ना आपके लिए फायदे की बात है। वर्तमान में चीन और वियतनाम में सबसे अधिक बांस की खेती की जा रही है।

लेकिन भारत सरकार के राष्ट्रीय बांस मिशन के आने से आने वाले समय में भारत में बांस की खेती बहुत बढ़ जाएगी, चीन और वियतनाम द्वारा बांस की सबसे ज्यादा खेती की जाएगी। ऐसे सभी उत्पाद कई देशों में बनते और बेचे जाते हैं।

बांस की खेती से कितनी होगी कमाई?

गणना के अनुसार यदि किसी किसान ने 3 x 2.5 मीटर का पौधा लगाया है तो वह प्रति हेक्टेयर 1,500 पौधे लगा चुका होगा। इन बांस के पौधों के बीच की जगह का उपयोग खेती के लिए भी किया जा सकता है।

इस तरह 4 साल बाद आप 3 से 3.5 लाख रुपये का मुनाफा कमा सकते हैं। एक किसान हर साल एक एकड़ बांस से 25-30 हजार रुपये की खेती बेच सकता है।

किसानों को हर साल बांस की रोपाई की जरूरत नहीं पड़ेगी। ऐसा इसलिए क्योंकि बांस के पौधे करीब 40 साल तक चलते हैं। बांस की खेती के बारे में अतिरिक्त जानकारी के लिए आप वेबसाइट nbm.nic.in का भी सहारा ले सकते हैं।