मस्जिद की रक्षा के लिए चलाई गई गोली : सोनू चिकना उर्फ यूनुस ने कबूला गुनाह

99
'Bullet fired to protect mosque': Sonu Chikna aka Yunus confesses to crime

नई दिल्ली : जहांगीरपुरी हिंसा में गिरफ्तार सोनू चिकना उर्फ ​​यूनुस से पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है। पूछताछ में सोनू ने फायरिंग का गुनाह कबूल किया है। पुलिस ने सोनू के पास से वह पिस्टल भी बरामद की है, जिससे उसने फायरिंग की थी।

इसी बीच एक वीडियो सामने आया है, जिसमें सोनू के स्थानीय लोग उसका बचाव कर रहे हैं। टाइम्स नाउ की एक रिपोर्ट में, एक महिला ने कहा, कोई नहीं दिखा रहा है कि वे लोग (दूसरी तरफ के लोग) क्या ला रहे थे।

सब सोनू को ही दिखा रहे हैं। सब सिर्फ मुसलमानों को दोष दे रहे हैं। परिवार की एक अन्य महिला ने कहा, सोनू ने गोली नहीं चलाई है, उसने सिर्फ मस्जिद की रक्षा के लिए गोली चलाई है।

इससे पहले, सोनू चिकना और सलीम चिकना की मां ने कहा था कि उन्होंने हिंसा के दौरान केवल ‘अपने समुदाय का समर्थन’ करने के लिए बंदूक उठाईं।

जब रिपोर्टर ने सवाल किया कि उनका बेटा दंगाइयों के बीच क्या कर रहा है। तो उसने जवाब दिया, मेरे बेटे की चिकन की दुकान है।

वह रोजा तोड़ने ही वाला था कि हिंदुओं और मुसलमानों के बीच तनाव पैदा हो गया और वह बाहर चला गया। उसके पास बंदूक नहीं है।

गुस्से में उसने किसी और से बंदूक छीन ली और गोली चलाई। लेकीन कोई घायल नहीं हुआ। वे हमें धमकी दे रहे थे।

मेरा बेटा बस उन्हें डराना चाहता था। लेकीन किसी ने व्यक्तिगत दुश्मनी के कारण वीडियो शूट किया और इसे वायरल कर दिया।

वहीं सोनू ने अब तक की पूछताछ में जो बताया है, उसकी पुलिस पुष्टि कर रही है, सोनू के जवाबों से पुलिस संतुष्ट नहीं है।

यही वजह है कि सोनू को कोर्ट में पेश करने के बाद पुलिस उसकी रिमांड की मांग करेगी ताकि उससे सच्चाई का पर्दाफाश हो सके, जहांगीरपुरी हिंसा मामले में पुलिस ने अब तक 4 प्राथमिकी दर्ज की है।

हनुमान जयंती पर दिल्ली में क्या हुआ था?

दिल्ली के जहांगीरपुरी में शनिवार शाम हनुमान जयंती के जुलूस पर पथराव और आगजनी की घटना हुई. उत्तर पश्चिमी दिल्ली के जहांगीरपुरी में दो समुदायों के लोग आमने-सामने आ गए।

पथराव और हथियारों के बाद भारी हंगामा हुआ। जुलूस जहांगीरपुरी के कुशल सिनेमा के पास से गुजर रही थी, उसी समय जुलूस पर पथराव शुरू हो गया. दूर-दूर से सड़कों पर पत्थर फेंके जा रहे थे।

बदमाशों ने कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया और कई वाहनों के शीशे तोड़ दिए। कई वाहनों में आग भी लगायी गयी, जब गाड़ी जली तो लोग सड़कों पर इधर-उधर भागते नजर आए।

फिलहाल जहांगीरपुर हिंसा के बाद इलाके में तनाव है। दिल्ली पुलिस ने अमन कमेटी के सदस्यों के साथ इलाके में शांति मार्च निकाला। पुलिस और अमन कमेटी ने लोगों से शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील की है।

वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पुलिस अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं। शाह ने कहा कि मामले में इस तरह की कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो और लोगों के लिए एक मिसाल कायम की जाए।

गृह मंत्री ने पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना को फोन कर कहा कि मामले में जो भी आवश्यक कदम उठाए गए हैं।