Business Idea : नौकरी की टेंशन खत्म, इस पेड़ की खेती करने से बनेंगे अमीर, घर बैठे बनेंगे करोड़पति

231
How To Cultivate Mahogany – Complete Information!

Business Idea : अगर आप कोरोना काल के इस दौर में अपनी कमाई बढ़ाना चाहते हैं तो आज हम आपको एक ऐसा बिजनेस आइडिया दे रहे हैं, जिससे आप घर बैठे करोड़पति बन जाएंगे।

इस बिजनेस में किसी भी तरह का नुकसान नहीं होता है, हालांकि इसमें थोड़ा वक्त जरूर लगेगा लेकिन आपको करोड़पति बनने से कोई नहीं रोक सकता।

आज हम बात कर रहे हैं महोगनी फार्मिंग (Mahogany Farming) की। यह एक ऐसा पेड़ है जो करोड़ों रुपये कमाएगा। महोगनी के 120 पेड़ अगर एक एकड़ जमीन में लगाए जाएं तो सिर्फ 12 साल में आप करोड़ों रुपये कमा सकते हैं।

महोगनी व्यावसायिक रूप से एक बहुत ही मूल्यवान वृक्ष है। महोगनी के पेड़ के लगभग सभी भागों का उपयोग किया जाता है।

इसकी लकड़ी का उपयोग जहाज, फर्नीचर, प्लाईवुड, सजावट और मूर्तियां बनाने के लिए किया जाता है। जबकि इसके बीज और फूलों का उपयोग शक्ति बढ़ाने वाली औषधि बनाने में किया जाता है।

महोगनी का पेड़ कैसा होता है

महोगनी की लकड़ी मजबूत होती है और इसकी शेल्फ लाइफ लंबी होती है। यह लकड़ी लाल और भूरे रंग की होती है। यह पानी की क्षति से प्रभावित नहीं है।

अगर वैज्ञानिकों के तर्कों की बात करें तो यह पेड़ 50 डिग्री सेल्सियस तक ही तापमान सहन कर सकता है और पानी न होने पर भी बढ़ता रहता है।

पेड़ कहाँ उगते हैं

महोगनी (Mahogany Farming) के पौधे ऐसे स्थान पर उगाए जाते हैं जहां तेज हवाएं कम चलती हैं, क्योंकि इसके पेड़ 40 से 200 फीट ऊंचे होते हैं। भारत में ये पेड़ केवल 60 फीट तक लंबे होते हैं।

इन पेड़ों की जड़ें कम गहरी होती हैं और भारत में इन्हें पहाड़ी इलाकों को छोड़कर कहीं भी उगाया जा सकता है। इसे किसी भी उपजाऊ मिट्टी में उगाया जा सकता है, लेकिन इन पौधों को कभी भी जल भराव वाली भूमि या पथरीली मिट्टी में न लगाएं। मृदा पीएच इन पेड़ों के लिए। मान सामान्य होना चाहिए।

महोगनी की खेती कैसे करें? 

महोगनी की खेती आपके लिए वरदान साबित हो सकती है क्योंकि इसकी लकड़ी कीमती होती है। महोगनी की लकड़ी 2000 रुपये प्रति क्यूबिक फीट की दर से बिकती है।

और इसका पेड़ 40000-50000 का होता है। महोगनी की खेती कैसे करें? महोगनी की खेती काफी सरल है। इसे आप दो तरह से कर सकते हैं। एक खेतों की सीमा पर और दूसरा पूरे खेत में पेड़ लगाकर।

खेत की तैयारी

महोगनी के पेड़ की खेती के लिए शुरुआत में खेत की गहरी जुताई करके उसे खुला छोड़ दें। उसके बाद खेत की दो से तीन तिरछी जुताई करनी चाहिए। जुताई के बाद खेत में पैड चलाकर खेत को समतल कर लें। समतल खेतों में जलजमाव की समस्या नहीं है।

खेत को समतल करने के बाद 5 से 7 फीट की दूरी रखते हुए तीन फीट चौड़ाई और दो फीट गहराई के गड्ढे तैयार करें। इन गड्ढों को तैयार करते समय इस बात का ध्यान रखें कि इन गड्ढों को पंक्तियों में तैयार करें।

प्रत्येक पंक्ति के बीच तीन से चार मीटर की दूरी होनी चाहिए। गड्ढों को तैयार कर मिट्टी में जैविक और रासायनिक खाद मिलाकर गड्ढों में भर दें। इसके बाद गड्ढों को गहरी सिंचाई से ढक दें। इन गड्ढों को रोपाई से एक महीने पहले तैयार किया जाता है।

पौधों की सिंचाई

महोगनी के पौधे को खेत में लगाने के बाद शुरुआत में उन्हें अधिक सिंचाई की आवश्यकता होती है। इस दौरान गर्मियों में पौधों को 5 से 7 दिनों के अंतराल पर पानी देना चाहिए।

सर्दियों में 10 से 15 दिनों के अंतराल पर पानी देने की सलाह दी जाती है। जबकि इसके पेड़ों को बारिश के दिनों में पानी की जरूरत नहीं होती है। जैसे-जैसे पौधा बढ़ता है। इसी तरह, पानी की दर कम हो जाती है। एक पूर्ण विकसित पेड़ के लिए एक वर्ष में 5 से 6 सिंचाई पर्याप्त है।

उन्नत किस्में

भारत में अभी तक महोगनी की कोई संकर या विशेष प्रजाति तैयार नहीं की गई है। अभी तक केवल 5 विदेशी कलमी किस्में ही उगाई जाती हैं।

क्यूबा, ​​मैक्सिकन, अफ्रीकी, न्यूजीलैंड और होंडुरन किस्मों सहित। ये सभी किस्में विदेशी हैं। इन सभी किस्मों के पौधों को उनकी उपज और बीजों की गुणवत्ता के आधार पर तैयार किया गया है। जिसकी लंबाई 50 फुट से 200 फुट तक पाई जाती है।

उपज और लाभ

महोगनी की खेती कर किसान भाई 12 साल बाद एक एकड़ से करोड़ों की कमाई करता है। क्योंकि इसके पेड़ की लकड़ी दो हजार रुपए प्रति क्यूबिक फीट की दर से बिकती है। इसके अलावा इसके बीज और पत्ते भी काफी ऊंचे दाम पर बेचे जाते हैं। जिससे किसान भाई को अच्छी पैदावार मिलती रहती है।

पौधों के रोग और उनकी रोकथाम

महोगनी के पेड़ में अभी तक कोई रोग नहीं पाया गया है। क्योंकि इसके पेड़ों की पत्तियों का ही उपयोग कीटनाशक बनाने में किया जाता है। हालांकि, लंबे समय तक जलभराव के कारण तना सड़ने की बीमारी हो जाती है। इससे बचाव के लिए गड्ढों में जलभराव न होने दें।

Mahogany उपयोग

महोगनी का पेड़ बहुत कीमती माना जाता है। यह बेहद मजबूत और टिकाऊ है। यहां तक ​​कि पानी का भी इस पर कोई भूरा प्रभाव नहीं पड़ता है।

इसलिए इसका उपयोग जहाज, गहने, फर्नीचर, प्लाईवुड, सजावट और मूर्तियां बनाने में किया जाता है। इसके साथ ही इस पेड़ की पत्तियों का उपयोग मुख्य रूप से कैंसर, रक्तचाप, अस्थमा, सर्दी और मधुमेह समेत कई तरह के रोगों में किया जाता है।

मुझे महोगनी का पौधा या बीज कहाँ से मिल सकता है? 

महोगनी नर्सरी बनाने और बेचने वाली कई कंपनियां हैं, जहां से आप महोगनी नर्सरी ऑर्डर कर सकते हैं। कंपनी इन नर्सरी को सुरक्षित तरीके से आप तक पहुंचाती है।

या फिर आप महोगनी के बीज भी ले सकते हैं और पौधे की नर्सरी तैयार कर सकते हैं। लेकिन इसमें अधिक समय लगता है। मुझे महोगनी के बीज कहां मिल सकते हैं? महोगनी के बीज आपको बाजार में आसानी से मिल जाएंगे।

महोगनी वृक्षारोपण प्रति एकड़

चूंकि पेड़ से पेड़ की दूरी 6 फीट है और इस प्रकार 135 पेड़ केवल एक एकड़ भूमि की सीमा पर लगाए जाते हैं। जिससे आप 10 से 12 साल में 15 से 20 लाख कमा सकते हैं।

वही अगर महोगनी की खेती पूरी एक एकड़ जमीन पर की जाए तो करीब 1100 पेड़ लगाए जाएंगे। और इसे लगाने में 1 लाख से 1.5 लाख का खर्च आएगा और 10 साल बाद आप इससे करोड़ों कमा सकते हैं। इसके साथ ही इनके बीज और पत्ते भी अच्छी कीमत पर बेचे जाते हैं, जिससे व्यक्ति अतिरिक्त कमाई कर सकता है।

इसके अलावा आप पेड़ों के बीच खाली जमीन पर दलहन या तिलहन की फसल भी उगा सकते हैं। या फिर आप सब्जी की खेती कर सकते हैं।

इसलिए महोगनी के पेड़ों की रोपाई करते समय उन्हें एक सीधी रेखा में लगाना चाहिए ताकि बीच में खाली जगह पर कोई दूसरी खेती आसानी से की जा सके।

महोगनी का पौधा कितने दिन में तैयार हो जाता है?

महोगनी का पेड़ 10 से 12 साल में बाजार में बिक्री के लिए तैयार हो जाता है। पौधे को जून से जुलाई तक प्रत्यारोपण करना उचित माना जाता है।

इसे भारत की किसी भी मिट्टी में आसानी से उगाया जा सकता है। इसे ठंडे या बर्फीले क्षेत्रों में नहीं लगाया जा सकता है। इसका पेड़ 4-6 साल में फल देना शुरू कर देता है। और यह 10-12 साल में कटाई के लिए तैयार हो जाता है।

Mahogany Farming में कमाई

इसका पौधा पांच साल में एक बार बीज देता है। एक पौधे से पांच किलों तक बीज निकलते हैं। इसके बीजों की कीमत बहुत अधिक होती है और ये एक हजार रुपये प्रति किलो तक बिकते हैं।

अगर थोक की बात करें तो थोक में लकड़ी 2 से 2200 रुपये प्रति क्यूबिक फीट में आसानी से मिल जाती है। यह एक औषधीय पौधा भी है, इसलिए इसके बीजों और फूलों का उपयोग औषधि बनाने के लिए किया जाता है।

महोगनी के पेड़ की पत्तियों में एक खास तरह का गुण पाया जाता है, जिससे इसके पेड़ों के पास मच्छर और कीड़े नहीं आते हैं।

इसी वजह से इसके पत्तों और बीजों के तेल का इस्तेमाल मच्छर भगाने वाले और कीटनाशक बनाने में किया जाता है। इसके तेल का उपयोग साबुन, पेंट, वार्निश और कई अन्य दवाएं बनाने में किया जाता है।

अतिरिक्त आय

महोगनी के पौधे लगभग 6 वर्ष बाद पूर्ण रूप धारण कर लेते हैं। इस दौरान खेत में पौधों के बीच बची हुई खाली जमीन में दलहन लगाकर किसान भाई अच्छी कमाई कर सकते हैं. जिससे उन्हें किसी भी प्रकार की आर्थिक समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा और पौधों को उचित मात्रा में नाइट्रोजन भी प्राप्त हो जाती है।