Business Idea: सरकारी मदद से शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी बंपर कमाई, जानिए कैसे करें शुरू

119
साबुन की मैन्युफैक्चरिंग (soap manufacturing

Business Idea: अगर आप नौकरी से तंग आ चुके हैं और किसी तरह का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो आज हम आपके लिए फिर से एक नया बिजनेस आइडिया लेकर आए हैं।

यह एक ऐसा व्यवसाय है जिसमें हर वर्ग के लोगों में उत्पाद की मांग बनी रहती है। गांव हो या शहर, इस उत्पाद की जबरदस्त मांग है। हम बात कर रहे हैं साबुन बनाने (Soap Manufacturing) की इकाई की।

इस धंधे में मशीनों की मदद से साबुन बनाया जाता है और उसे बाजार में पहुंचाया जाता है। हालांकि कई लोग हाथ से बने साबुन को बनाकर बाजार (Soap Manufacturing) में बेचते हैं। अच्छी बात यह है कि इस व्यवसाय को छोटे स्तर पर भी शुरू किया जा सकता है।

भारत में साबुन बाजार की श्रेणी | Soap market category in India

साबुन बाजार को इसके उपयोग के आधार पर विभिन्न श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। जैसे की-

> लॉन्ड्री सोप (Laundry Soap)

> ब्यूटी सोप (Beauty Soap)

> मेडिकेटेड सोप (Medicated Soap)

> किचन सोप (Kitchen Soap)

> परफ्यूम्ड सोप (Perfumed Soap)

आप अपने उत्पादों को मांग और बाजार को ध्यान में रखते हुए इनमें से किसी भी श्रेणी के अनुरूप बना सकते हैं।

4 लाख रुपये में शुरू करें बिजनेस

आज के समय में साबुन की मांग छोटे शहरों से लेकर बड़े शहरों, कस्बों और गांवों में अलग-अलग है। ऐसे में साबुन बनाने का बिजनेस आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

आप बहुत कम पैसे में साबुन की फैक्ट्री खोल सकते हैं। इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आप मोदी सरकार की मुद्रा योजना के तहत 80 फीसदी लोन ले सकते हैं. मुद्रा योजना के तहत लोन लेने के कई फायदे हैं।

जानिए आप कितना कमाएंगे

केंद्र सरकार की मुद्रा योजना प्रोजेक्ट प्रोफाइल के मुताबिक आप एक साल में कुल करीब 4 लाख किलो का उत्पादन कर सकेंगे। इसकी कुल कीमत करीब 47 लाख रुपये होगी।

व्यापार में सभी खर्चों और अन्य देनदारियों के बाद, आपको 6 लाख रुपये यानि 50,000 रुपये प्रति माह का शुद्ध लाभ होगा।

मशीनों की कीमत कितनी होगी

साबुन बनाने की इकाई स्थापित करने के लिए आपको कुल 750 वर्ग फुट की आवश्यकता होगी। इसमें से 500 वर्ग फुट को कवर किया जाना चाहिए और बाकी को खुला रखा जाना चाहिए।

इसमें सभी तरह की मशीनों समेत 8 तरह के उपकरण लगेंगे। प्रोजेक्ट रिपोर्ट के मुताबिक इन मशीनों को लगाने में कुल 1 लाख रुपये का खर्च आएगा।

किसी भी बैंक से मिलेगा ऋण

साबुन बनाने के लिए एक निर्माण इकाई स्थापित करने पर कुल 15,30,000 रुपये खर्च किए जाते हैं। इसमें तीन महीने के लिए यूनिट लोकेशन, मशीनरी, वर्किंग कैपिटल शामिल है।

इस 15.30 लाख रुपये में से आपको सिर्फ 3.82 लाख रुपये ही खर्च करने होंगे। मुद्रा योजना के तहत बची हुई राशि को आप लोन के रूप में ले सकते हैं।