एससी-एसटी, ओबीसी और अल्पसंख्यकों के लिए 50% पद आरक्षित करने पर विचार कर रही कांग्रेस

39
Congress considering to reserve 50% posts for SC-ST, OBC and minorities
कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उदयपुर में पार्टी के 'नव संकल्प चिंतन शिविर' के दौरान पार्टी नेताओं को संबोधित किया। फोटो: पीटीआई

उदयपुर: उदयपुर चिंतन शिविर 2022 | राजस्थान के उदयपुर में चल रहे चिंतन शिविर (Udaipur Chintan Shivir 2022) के बीच पार्टी ने अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यकों को पार्टी में अधिक प्रतिनिधित्व देने के लिए एक बड़ा कदम उठाया है।

सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने एससी-एसटी, ओबीसी और अल्पसंख्यकों के लिए सभी पार्टी पदों में से 50 प्रतिशत आरक्षित करने की योजना तैयार की है।

पार्टी ने शनिवार को यह जानकारी दी। मिशन 2024 की तैयारी में जुटी कांग्रेस के लिए इन वंचित तबकों का प्रतिनिधित्व बढ़ाने का फैसला काफी अहम माना जा रहा है।

Congress interim president Sonia Gandhi greets senior party leaders at the 'Nav Sankalp Chintan Shivir' in Udaipur on 13 May 2022 | ANI Photo

चिंतन शिविर के दूसरे दिन चर्चा के बाद प्रेसवार्ता में यह जानकारी दी गयी. इस चिंतन शिविर में पार्टी के पदाधिकारियों द्वारा पार्टी संगठन के पुनर्निर्माण, लगातार चुनावी हार से सबक लेने, अच्छे परिणाम और नेतृत्व जैसे मुद्दों पर गहन चर्चा की जा रही है।

इन सभी बिंदुओं पर पार्टी नेता के राजू ने जानकारी दी। इस बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Congress President Sonia Gandhi), राहुल गांधी (Rahul गांधी), पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी (Party General Secretary Priyanka Gandhi), सचिन पायलट (Sachin Pilot) आदि शामिल हैं। इसके अलावा गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा जैसे वरिष्ठ नेता भी चिंतन शिविर में शामिल हैं।

पार्टी नेता ने कहा, कांग्रेस अध्यक्ष की सहायता के लिए सामाजिक न्याय सलाहकार परिषद के गठन पर भी चर्चा हुई, यह परिषद सभी मुद्दों पर गौर करेगी और अपनी सिफारिशें देगी।

राजू ने कहा, कमजोर वर्गों के लिए कांग्रेस कार्यसमिति का हर छह महीने में एक विशेष सत्र होगा। राजू ने कहा, राष्ट्रीय नीति के स्तर पर हमें जाति जनगणना करनी चाहिए।

निजी क्षेत्र में एससी-एसटी और ओबीसी के लिए आरक्षण किया जाना चाहिए। महिला आरक्षण विधेयक में एससी-एसटी महिलाओं के लिए भी प्रावधान होना चाहिए।

कांग्रेस का यह चिंतन शिविर 15 मई तक चलेगा और आखिरी दिन पार्टी सभी मुद्दों पर लिए गए फैसलों को सामने रख सकती है।

TRENDING TODAY