Congress President Election : नामांकन के अगले ही दिन शुरू हुआ मल्लिकार्जुन खड़गे का विरोध, AICC सदस्य ने लगाए कई बड़े आरोप, जानिए पूरा मामला

34
Congress President Election :

Congress President Election : कांग्रेस के अध्यक्ष का चुनाव इस समय सबसे ज्यादा ट्रेंडिंग टॉपिक है। कल 30 सितंबर को नामांकन का आखिरी दिन था।

तीन नेताओं ने पर्चा दाखिल किया। एक शशि थरूर, दूसरे मल्लिकार्जुन खड़गे और झारखंड कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने अध्यक्ष पद के लिए नामांकन किया है।

नामांकन के दौरान माहौल और प्रस्तावकों को देखते हुए खड़गे की जीत तय मानी जा रही है। लेकिन आज से शशि थरूर और मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी अपने पक्ष में वोट बटोरने के लिए प्रचार करना शुरू कर दिया।

लेकिन इसके साथ ही मल्लिकार्जुन खड़गे का विरोध भी शुरू हो गया है। मुंबई कांग्रेस के एक नेता ने उनकी उम्मीदवारी का विरोध करते हुए एक पत्र लिखा है।

राज्य में पार्टी का जनाधार उनके रहते खत्म हो गया

Mallikarjun Kharge

मुंबई से एआईसीसी सदस्य विश्व बंधु राय ने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर मांग की कि खड़गे को अध्यक्ष नहीं बनाया जाए। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि, मल्लिकार्जुन खड़गे 80 साल के हैं। वह लोकसभा में विपक्ष के नेता थे, लोकसभा चुनाव भी नहीं जीत सके। साथ ही वे slot gacor कांग्रेस के प्रभारी बने।

पार्टी का समर्थन राज्य में आधार उनके अधीन था। यह खत्म हो गया है। खड़गे ने शिवसेना के साथ गठबंधन किया जो आज महाविनाश गठबंधन बन गया है। पार्टी के राज्य में 2 सांसद थे, लेकिन प्रभारी रहते हुए महाराष्ट्र में केवल एक सांसद का चुनाव करके दिल्ली गए।

खड़गे अध्यक्ष बने तो पार्टी को होगा ज्यादा नुकसान

साथ ही राय ने आरोप लगाया कि अगर खड़गे अध्यक्ष बनते हैं तो पार्टी को और नुकसान होगा. उन्होंने पत्र में लिखा है कि, ”वैसे, उन्हें अब तक सक्रिय राजनीति से संन्यास ले लेना चाहिए था।

लेकिन उनका प्रभाव दिल्ली में बना हुआ है। इसलिए उन्हें पार्टी से बहुत कुछ मिलता रहता है। राय ने सोनिया गांधी को लिखे पत्र में कहा है कि मल्लिकार्जुन खड़गे का अपना कोई जनाधार नहीं है। उनके प्रभाव से न तो सत्ताधारी दल डरेगा और न ही युवा आकर्षित होंगे।

किसी युवा और चतुर नेता को मौका देना चाहिए था

उन्होंने कहा कि इस उम्र slot वह देश के सभी जिलों में सभाएं भी नहीं कर पाएंगे। उन्होंने सुझाव दिया कि खड़गे के स्थान पर एक युवा और तेज तर्रार नेता को मौका दिया जाना चाहिए था।

साथ ही उन्होंने अपील की कि पार्टी के हित को ध्यान में रखते हुए अध्यक्ष पद के लिए किसी कठपुतली का समर्थन नहीं किया जाए।