NFT साबित हो सकता है दशक का अगला बड़ा घोटाला? विनाशकारी साबित हो सकता है अंधविश्वास !

169
Could NFT prove to be the next big scam of the decade? Superstition can prove to be disastrous!

Non-Fungible Token : छोटी गंगा बोलकर, नाले में कुदा दिया, यह मशहूर फिल्म डायलॉग एनएफटी यानी नॉन-फंगिबल टोकन (Non-Fungible Token) पर बिल्कुल फिट बैठता है जो हाल ही में देश में बुलबुले की तरह सामने आया है।

जिस तरह बाजार में किसी भी नई चीज के आने से लोगों में कौतूहल का माहौल पैदा हो जाता है, ठीक ऐसा ही कुछ इस समय भारत में भी देखने को मिल रहा है।

एनएफटी का नाम पिछले कुछ समय से बाजार में काफी चर्चा में है। खिलाड़ियों से लेकर बॉलीवुड की कई मशहूर हस्तियों तक हर कोई NFT (Non-Fungible Tokens) यानी अपूरणीय टोकन लॉन्च कर रहा है। इसके अलावा कुछ अभी इन्हें लॉन्च करने की तैयारी में हैं।

अब इस डिजिटल एसेट के प्रति लोगों की दिलचस्पी बढ़ रही है, देश की आम जनता भी एनएफटी के इस्तेमाल का मन बना रही है।

लेकिन एक सच्चाई यह भी है कि मीडिया एनएफटी के सकारात्मक पक्ष को दिखाने में व्यस्त है, जबकि इसके नकारात्मक पक्ष और इसके दूरगामी परिणामों के बारे में जानना बहुत जरूरी है।

जिस तरह मीडिया ने क्रिप्टोकरेंसी को लेकर लोगों में भ्रम फैलाया है, उसी तरह वर्तमान में एनएफटी को लेकर भी यही खेल खेला जा रहा है। वो भी तब जब कई विशेषज्ञों ने एनएफटी को घोटाला बताया है!

प्रोफेसर और शोधकर्ता एलेक्स स्टैमोस, जो स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में अपने शिक्षण और शोध के माध्यम से इंटरनेट सुरक्षा में सुधार के लिए काम करते हैं, डेटा, गोपनीयता और सामान्य इंटरनेट गतिविधि की दुनिया पर कई आकर्षक विचार प्रस्तुत करते हैं।

हाल ही में उन्होंने एक प्रोग्राम में NFT पर कमेंट किया था। उन्होंने कहा कि “ज्यादातर NFT घोटाले होते हैं। यदि आपको एनएफटी खरीदने से पहले फटकारा जा रहा है, तो यह अच्छा है।”

उन्होंने कहा कि “एनएफटी एक घोटाला है, लोग इसमें पिस रहे हैं। मैं इसे खरीदने वाले लोगों के बहुत खिलाफ हूं।” ध्यान देने वाली बात है कि स्टैमोस याहू और फेसबुक के पूर्व मुख्य सूचना सुरक्षा अधिकारी रह चुके हैं।

NFT क्या है?

दरअसल, एनएफटी एक डिजिटल एसेट है, जिसे ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के जरिए हैंडल किया जाता है। इसमें आप किसी को भी NFT में कन्वर्ट करके इमेज, गेम, वीडियो, ट्वीट से कमाई कर सकते हैं।

इसमें खास बात यह है कि इन डिजिटल एसेट को क्रिप्टोकरेंसी के जरिए ही खरीदा और बेचा जाता है। अपूरणीय टोकन काफी अनोखा है, क्योंकि इसमें एक विशिष्ट आईडी कोड होता है, इसलिए दो एनएफटी कभी मेल नहीं खा सकते हैं।

साथ ही उन्हें डुप्लीकेट नहीं बनाया जा सकता। पिछले कुछ महीनों में दुनिया भर में एनएफटी को लेकर काफी चर्चा हुई है। हालांकि, कई लोगों को इस पर संदेह है और उनका आशंकित होना जायज है, क्योंकि इसका आधार ऐसा है, जो आम जनता की समझ से परे है.

एनएफटी क्या है और यह किसका प्रतिनिधित्व करता है, इसके बीच के अंतर को समझाते हुए, एनएफटी स्टार्टअप का दावा है कि उनका उत्पाद कला की दुनिया के लिए क्रांतिकारी है।

इसके विपरीत, एनएफटी उच्च तकनीक वाले कपड़ों में लिपटा एक घोटाला है। इस प्रचार ने एनएफटी में खरीदारी के बुलबुले को और बढ़ा दिया है।

यह बुलबुला कब तक चलेगा इसका अंदाजा किसी को नहीं है, लेकिन अगर ऐसा ही रहा तो बाजार पहले से भी ज्यादा खराब हो सकता है!

आँख बंद करके विश्वास करना विनाशकारी साबित हो सकता है

आपको बता दें कि क्रिप्टोकरेंसी की तरह एनएफटी भी ब्लॉकचेन का ही एक रूप है। कोरोना महामारी के बीच क्रिप्टोकरेंसी सबसे ज्यादा चर्चा में रही है।

वर्चुअल करेंसी के नाम पर कई निवेशक इससे अमीर हो गए, जबकि कई निवेशक लूट लिए गए। आपको बता दें कि साल 2021 में जालसाजों ने क्रिप्टोकरंसी के निवेशकों से कुल 58 हजार करोड़ से ज्यादा की ठगी की, यह अभी भी आंकड़ों में दर्ज है, वास्तविक संख्या इससे भी बड़ी हो सकती है।

ब्लॉकचेन एनालिसिस फर्म चेन एनालिसिस की एक हालिया रिपोर्ट से पता चलता है कि क्रिप्टोक्यूरेंसी व्यवसाय में वित्तीय घोटालों की संख्या 2021 में 50% से अधिक बढ़कर 3,300 से अधिक हो गई, जिसमें वर्ष 2020 में धोखाधड़ी की संख्या 2052 थी।

सौ में एक चीज, आँख बंद करके भरोसा करने वाली तकनीक विनाशकारी साबित हो सकती है। इन सभी मामलों पर सरकार की पैनी नजर है, लेकिन देश की जनता को भी यह समझना होगा कि तकनीक को लागू करना है।

लेकिन इस पर निर्भर रहना बेवकूफी से कम नहीं है. जबकि एनएफटी के नाम पर कैट कार्टून करोड़ों में खरीदे और बेचे जा रहे हैं।

यह अपने प्रभाव का विस्तार करने का एक प्रचार माध्यम भी हो सकता है और इसे भुलाया नहीं जा सकता है! अंधविश्वास और लालच की आड़ में विश्वास किया जाए तो एनएफटी के नाम पर घोटालों की सूची जरूर होगी!