Crime News : बेटे ने पिता का 4 बैंकों में 40 लाख का बीमा कराया, शहर से गांव लाया और मार डाला

313
Crime News: Son got father insured 40 lakhs in 4 banks, brought from city to village and killed

भरतपुर : राजस्थान के भरतपुर जिले से एक मामला सामने आया है। भरतपुर के डीग थाना क्षेत्र में एक कलयुगी पुत्र ने अपने दो साथियों के साथ दुर्घटना बीमा का फर्जी दावा करने के लिए अपने पिता की हथौड़े से बेरहमी से हत्या कर दी।

24 दिसंबर की देर रात आरोपी ने वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने हत्या के आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। मामले की सच्चाई पर पुलिस के पैरों तले से जमीन भी खिसक गई। डीग पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है.

जानकारी के अनुसार हत्या की घटना का शिकार हुआ मोहकम डीग के सदर थाना क्षेत्र के नगला भढाई गांव का रहने वाला था।

मोहकम अपने बेटे राजेश के साथ फरीदाबाद में रहता था। करीब चार महीने पहले राजेश ने अपने पिता मोहकम का चार अलग-अलग बैंकों में 40 लाख रुपये का दुर्घटना बीमा कराया था।

उसके बाद उसने इस बीमा का फर्जी दावा करने की योजना बनाई। इसके लिए मोहकम को गांव लाने की योजना तैयार की गई थी।

24 दिसंबर को दी गई घटना की फांसी

पुलिस की प्रारंभिक जांच में पता चला है कि 24 दिसंबर को राजेश अपने दोस्तों के साथ सुनियोजित तरीके से अपने पिता को घर ला रहा था, शाम को रास्ते में राजेश ने पहले अपने पिता और उसके साथियों को शराब पिलाई।

उसके बाद डीग थाना क्षेत्र के दीदावाली गांव के पास मौका देखकर साथियों के साथ मिलकर हथौड़े से मारकर पिता की बेरहमी से हत्या कर दी; बाद में शव को सड़क किनारे फेंक दिया गया ताकि यह हादसा लग सके।

तीनों युवक शांति भंग करने के आरोप में पकड़े गए

वारदात को अंजाम देने के बाद राजेश व उसके साथी देर रात तक शराब के नशे में सड़क पर घूमते रहे। इस दौरान रात में गश्त करती पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर पुलिस ने तीनों आरोपियों को शांति भंग करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया. 25 दिसंबर की सुबह पुलिस को कंट्रोल रूम के जरिए सूचना मिली कि एक व्यक्ति का शव दीदावली गांव के पास मिला है.

परिजनों की सूचना पर पुलिस को युवकों पर शक हुआ

अपर पुलिस अधीक्षक बुगलाल मीणा ने बताया कि पुलिस ने शव की जानकारी आधार कार्ड के आधार पर की तो उसकी पहचान मोहकम निवासी गांव नगला भढाई के रूप में हुई।

पुलिस ने मृतक के परिजनों को सूचना दी। इस दौरान परिवार ने पुलिस को बताया कि मोहकम का हाल ही में 40 लाख रुपये के दुर्घटना बीमा का बीमा कराया गया है.

आरोपी ने कबूली हत्या की सच्चाई

इससे पुलिस का शक गिरफ्तार युवकों पर चला गया। पुलिस ने तीनों युवकों से सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने सच उगल दिया। तीनों आरोपियों ने मोहकम की हत्या करना कबूल किया। उसने बताया कि उसने दुर्घटना बीमा क्लेम लेने के लिए ही मोहकम की हत्या की थी।