Crypto Crash : बिटकॉइन-एथेरियम समेत ज्यादातर क्रिप्टोकरेंसी में आई गिरावट से हैरान निवेशक, जानिए रूस से क्या है इसका कनेक्शन

232
Crypto Crash: Investors surprised by the decline in most cryptocurrencies including Bitcoin-Ethereum, know what is its connection with Russia

Crypto Crash : साल 2022 की शुरुआत क्रिप्टो मार्केट के लिए बिल्कुल भी अच्छी नहीं रही है। नए साल की शुरुआत के साथ ही अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी में गिरावट का दौर अभी भी जारी है।

ब्लैक फ्राइडे का असर शनिवार को भी देखने को मिला और बिटकॉइन-एथेरियम समेत ज्यादातर डिजिटल करेंसी के दाम धरातल पर आ गए।

एक रिपोर्ट के अनुसार, हाल के दिनों में क्रिप्टोकरेंसी के मूल्य में गिरावट का मुख्य कारण रूस के केंद्रीय बैंक का देश में उनके खनन पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव है।

सबसे लोकप्रिय बिटकॉइन के दिन गए

दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन की हालत भी शनिवार को खराब रही। इसमें 7.08 फीसदी की गिरावट देखी गई। इस तरह इसकी कीमत 2,23,200 रुपये घटकर 29,28,746 रुपये के निचले स्तर पर आ गई।

इस गिरावट के साथ, बिटकॉइन का बाजार पूंजीकरण भी गिरकर 55 ट्रिलियन रुपये हो गया। गौरतलब है कि यह अगस्त 2021 के बाद से बिटकॉइन का सबसे निचला स्तर है।

इससे पहले आपको बता दें कि पिछले साल नवंबर में बिटकॉइन ने अपने सर्वकालिक उच्च आंकड़े को छू लिया था, लेकिन तब से यह लगातार टूट रहा है।

बिटकॉइन अपने सर्वकालिक उच्च से 46% नीचे

गौरतलब है कि पिछले साल नवंबर 2021 में बिटकॉइन की कीमत अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गई थी। नवंबर में बिटकॉइन की कीमत 68,990 डॉलर तक पहुंच गई, लेकिन तब से इसमें लगातार गिरावट आई है।

शनिवार तक, बिटकॉइन की कीमत नवंबर में अपने सर्वकालिक उच्च से 46% कम है। वहीं अगर साल 2022 की बात करें तो इस साल की शुरुआत से ही बिटकॉइन की कीमत एक महीने से भी कम समय में 15 फीसदी से ज्यादा टूट चुकी है।

इथेरियम की कीमत इस साल 20% कम है

न केवल बिटकॉइन बल्कि अन्य डिजिटल मुद्राओं सहित दुनिया की शीर्ष 10 क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में भारी कमी देखी जा रही है। दूसरी सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी की बात करें तो एथेरियम की कीमत बुरी तरह गिर गई है।

शुक्रवार को जहां इसमें 9 फीसदी की गिरावट देखी गई थी, वहीं शनिवार को इसकी कीमत 11.59 फीसदी यानी 26,924 रुपये गिरकर 2,05,323 रुपये पर आ गई थी।

क्रिप्टोक्यूरेंसी एथेरियम की कीमत में भी पिछले 24 घंटों में भारी गिरावट आई है। इस साल की शुरुआत से अब तक इसमें करीब 20 फीसदी की गिरावट आई है।

अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी में सबसे खराब

जबकि बिटकॉइन और एथेरियम नीचे की ओर हैं, अन्य क्रिप्टोकरेंसी भी खराब स्थिति में हैं। टॉप 10 क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों पर नजर डालें तो शनिवार को पोलकाडॉट 18 फीसदी, डॉजकोइन 8 फीसदी, शीबा इनु 19 फीसदी, लिटकोइन 11 फीसदी, बिनेंस कॉइन 13 फीसदी, सोलाना 16 फीसदी, टेरा 22 फीसदी और कार्डानो था।

9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। कुल मिलाकर, केवल पिछले चार दिनों में क्रिप्टोकरेंसी का मूल्य लगभग 25% गिर गया है। वैश्विक क्रिप्टोक्यूरेंसी बाजार पूंजीकरण शनिवार को 5 प्रतिशत से अधिक गिरकर $ 2 ट्रिलियन से नीचे $ 1.98 ट्रिलियन हो गया। इससे निवेशकों को खरबों रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है।

यह है गिरावट का रूस कनेक्शन

क्रिप्टोकरेंसी को एक अनियंत्रित और जोखिम भरा बाजार माना जाता है। यहां निवेशक पल भर में आसमान की ऊंचाइयों पर पहुंच जाता है और फिर पल भर में जमीन पर गिर जाता है।

यही कारण है कि भारत में निवेशकों की सुरक्षा को देखते हुए क्रिप्टो बिल तैयार करने पड़े। क्रिप्टो बाजार में हाल ही में आए भूकंप की बात करें तो इसके तार कहीं से रूस से जुड़े हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, क्रिप्टोकरेंसी के मूल्य में गिरावट का मुख्य कारण रूस के केंद्रीय बैंक द्वारा देश में उनके खनन पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव है।

केंद्रीय बैंक ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी रूस की वित्तीय स्थिरता को खतरे में डाल रही है और लोगों को नुकसान पहुंचा रही है और साथ ही देश की मौद्रिक नीति को भी प्रभावित कर रही है।