Crypto News : क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने वालों के लिए बड़ी खबर, सरकार जल्द कर सकती है घोषणा

85
Crypto News: Big news for those investing in cryptocurrencies, the government may announce soon

 Crypto News : क्या थी बजट में वर्चुअल डिजिटल एसेट्स पर टैक्स लगाने का ऐलान, क्रिप्टो की पूरी दुनिया हिल गई। ट्रेडिंग करने वाले निवेशकों और एक्सचेंजों के लिए सुख की स्थिति रही है, कहीं दुख की तरह।

क्रिप्टो से होने वाले मुनाफे पर निवेशकों को 30% कर की मार पड़ी। अगर आप ट्रेडिंग करते हैं तो आपको 1% टीडीएस देना होगा। इससे निवेशक नाखुश हैं। निवेशकों के विपरीत, एक्सचेंजों का दर्द एक और है।

एक्सचेंज चिंतित हैं कि 1% टीडीएस उनके लिए कर जटिलताओं को जोड़ने वाला है। अब इन प्लेटफॉर्म पर ज्यादातर निवेशक भारतीय हैं जो समुद्र के उस पार रहते हैं।

Karnataka’s Hijab Controversy : कर्नाटक के हिजाब विवाद में कूदीं मलाला यूसुफजई, भारतीय नेताओं से की अपील, जानिए क्या है पूरा मामला

अब कानून कहता है कि ऐसे निवेशकों पर 2% इक्वलाइजेशन टैक्स भी लगता है। यहीं से एक्सचेंजों की उलझन बढ़ी है। इस कारण से, क्रिप्टो एक्सचेंज चाहते हैं कि सरकार जल्द से जल्द कर मुद्दे पर तस्वीर को पूरी तरह से साफ कर दे।

क्या है सरकार की तैयारी

सरकार का इरादा इस मामले में 1 अप्रैल से पहले स्पष्ट कर नियम पेश करने का है। इसका उद्देश्य वर्चुअल डिजिटल एसेट की परिभाषा को व्यापक बनाना है ताकि भविष्य में कोई भी डिजिटल एसेट इससे बाहर न रहे।

खैर, बजट में टैक्स लगने से एक्सचेंज इस बात को लेकर भी रिलेक्‍स हैं, कि अब टैक्स लग गया तो सरकार क्रिप्टो को कम से कम बैन नहीं करेगी, निवेशक धड़ाधड़ एक्सचेंजों पर खुद को रजिस्टर्ड करा रहे हैं।

निवेशकों की बढ़ती संख्या से उत्साहित एक एक्सचेंज ने क्रिप्टो में एसआईपी भी शुरू किया है। यानी हर महीने थोड़ा-थोड़ा पैसा लगाकर क्रिप्टो खरीदते रहें।

तीन भारतीयों, जिन्होंने पॉलीगॉन की स्थापना की, एथेरियम ब्लॉकचैन के लिए एक द्वितीयक स्केलिंग समाधान, को भी $450 मिलियन का वित्त पोषण प्राप्त हुआ है। यानी बड़े निवेशक भी क्रिप्टो से जुड़ी कंपनियों को लेकर बुलिश हैं।

कर्नाटक हाई कोर्ट में हिजाब विवाद पर सुनवाई : भावना से नहीं हम कानून से चलेंगे

क्रिप्टो की उथल-पुथल के विपरीत, रिजर्व बैंक तेजी से अपनी डिजिटल मुद्रा लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है। आरबीआई को लग रहा है कि अगर डिजिटल करेंसी आती है तो उसके नोट छापने का खर्च बहुत कम होगा।