Entral Vista First Look : कैसा होगा देश का नया संसद भवन, देखें सेंट्रल विस्टा एवेन्यू का फर्स्ट लुक

163

नई दिल्ली : दिल्ली में बन रहे सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट (Central Vista project) पर तेजी से काम चल रहा है।

इस प्रोजेक्ट में देश के नए संसद भवन और कई नए आवासीय परिसर का निर्माण किया जाना है। इस प्रोजेक्ट को लेकर राजनीतिक दलों की तरफ से कई बार आलोचना की गई।

अब इस प्रोजेक्ट का पहला लुक सामने आ चुका है. सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट (Central Vista Avenue ) का काम कुल 85.3 हेक्टेयर में चल रहा है. इसमें कई तरह की खास सुविधाओं का भी ध्यान रखा गया है।

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट में संसद भवन के साथ साथ प्रधानमंत्री और उपराष्ट्रपति के आवास का भी निर्माण किया जा रहा है।

लाल ग्रेनाइट पत्थर लगे 1.10 लाख वर्ग मीटर में फैले फुटपाथ और उसके चारों तरफ हरियाली, राजपथ को रोशनी से नहाने के लिए 133 प्रकाश स्तम्भ, 4,087 पेड़, 114 आधुनिक साइन बोर्ड और सीढ़ीदार उद्यान राष्ट्रीय राजधानी में पुनर्विकसित हो रहे सेंट्रल विस्टा का हिस्सा होंगे, जो इसकी छटा में चार चांद लगाएंगे।

केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के अनुसार, सेंट्रल विस्टा को चौबीस घंटे पैदल यात्रियों के लिए अनुकूल बनाने के लिए राष्ट्रपति भवन और इंडिया गेट के बीच उद्यानों में और राजपथ के किनारे कुल 915 प्रकाश स्तम्भ होंगे।

25 पेड़ों को अपने स्थान से हटाया गया है, जिनमें से 22 पेड़ों को दूसरी जगह ले जाया गया है और तीन को यहां लगाया गया है।

इस वर्ष राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड देखने वाले लोगों को सरकार की महत्वाकांक्षी सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना के तहत राजपथ का नया रूप देखने को मिलेगा।

सेंट्रल विस्टा स्थल का दौरा करने वाले केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि राजपथ पर रविवार को फुल ड्रेस रिहर्सल परेड होगा।

आपको बता दें कि सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का काम टाटा को दिया गया है। संसद की नई इमारत अक्टूबर 2022 तक तैयार हो सकती है।

अब तक इस प्रोजेक्ट का लगभग 40 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। उम्मीद है कि इस बार संसद का शीतकालीन सत्र नए संसद भवन में आयोजित किया जाएगा।

इस प्रोजेक्ट में संसद भवन से सुरंग के रास्ते प्रधानमंत्री के आवास और सांसदों के चैंबर तक कनेक्टिविटी रखी गई है। इसे प्रोजेक्ट में बाद में जोड़ा गया है जिसकी वजह से प्रोजक्ट की लागत में बढ़ोतरी हुई।

नए पौधे लगाए गए

मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) ने बताया कि राजपथ पर टूटी पड़ी या पुरानी हो चुकी सभी बेंच को बदलकर पत्थर से बने 422 बेंच लगाए गए है।

लॉन की सिंचाई के लिए 1 सेंट्रलाइसड माइक्रो इरिगेशन सिस्टम बनाया गया है. जिसमे ट्रीटेड वाटर का इस्तेमाल होगा।

लान में लगी घास की सिंचाई के लिए स्प्रिंकलर लगाए गए हैं. पेड़ों के नीचे भी हरियाली रहे, इसके लिए विशेष किस्म की घास लगाई गई है।

ट्री एवेन्यू में कुल 4087 पेड़ हैं. जबकि पहले 3890 पेड़ हुए करते थे।

उन्होंने बताया कि प्रोजेक्ट (Central Vista Project) के तहत नहर का स्वरूप बदला गया है. इसके किनारों पर लाल पत्थर और तलहटी में टाइल्स लगाई गई हैं।

साथ ही पानी को लगातार साफ रखने के लिए 60 मशीनें aerator लगाई गई हैं। नहर को पार करने के लिए फिलहाल कुछ टेम्परेरी तो कुछ परमानेट पुल बनाए गए हैं। प्रोजेक्ट पूरा होने पर कुल 16 स्थाई पुल होंगे।

लगाई गईं नए डिजाइन वाली कुर्सियां

सिटिंग अरेंजमेट की बात करें तो विशेष किस्म की कुर्सियां नई डिजाइन में बनाई गई हैं, जो पहले की तुलना में कम समय में इंसटाल की जा सकती हैं. जिससे समय और लेबर भी बचेगा।

ये कुर्सियां दिखने में सुंदर और वैठने में आरामदायक भी हैं. इसमे कुल 30 हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था है। रिपब्लिक डे फंक्शन के दौरान इसमें करीब 24 हजार लोग बैठ सकेंगे।

राजपथ पर कुल 4 पैदल अंडरपास भी बनाए जा रहे हैं, जो आने वाले कुछ दिनों में पूरे कर लिए जाएंगे। इनमें एक पुल 150 मीटर का होगा. यहां जनसुविधाएं भी होंगी।

दिव्यांग फ्रेंडली पोल लगाए गए

मंत्री (Hardeep Singh Puri) ने बताया कि इंडिया गेट प्लाजा का भी सौंदर्यीकरण किया गया है। साथ ही इंडिया गेट के पास स्टेप गार्डन बनाया जा रहा है।

जहां लोग बैठकर कुछ परफॉर्मेंस का भी आनंद उठा सकेंगे. राजपथ (Central Vista Project) पर सीमेंट के पोल्स को बदलकर उनकी जगह 987 पत्थर के मजबूत पोल लगाए गए हैं।

लाइट पोल्स की बात करें तो उन्हें भी बदला गया है. कुल 133 लाइट पोल्स पूरे राजपथ को जगमग कर रहे हैं। राजपथ के आसपास गार्डन एरिया में भी कुल 915 लाइट पोल लगाए गए हैं।

पुराने साइनेज को हटाकर उनकी जगह 114 नए साइनेज लगाए गए हैं, जो दिव्यांग फ्रेंडली होंगे और वे रात में भी चमकेंगे।