पहले नाबालिग बेटी का जबरन धर्म परिवर्तन, फिर 5 महीने तक किया शोषण; ईसाई मिशनरी पर एक मां का आरोप, कोर्ट ने जारी किया नोटिस

142
First forced conversion of minor daughter, then exploited for 5 months: Christian missionary accused of a mother, court issued notice

एक नाबालिग हिंदू लड़की का जबरन ईसाई धर्म अपनाने के मामले में उसकी मां की ओर से दायर याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट ने नोटिस जारी किया है।

मां का आरोप है कि इवेंजेलिकल फेलोशिप ऑफ इंडिया कमिशन ऑन रिलीफ एंड प्रयास (Evangelical Fellowship of India Commission on Relief and Prayas) नाम के एक ईसाई मिशनरी के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने उसके बेटी को ईसाई धर्म अपनाने के लिए प्रेरित किया और उसके माध्यम से एक फर्जी यौन शोषण का मामला दर्ज किया।

मां का कहना है कि अपने बच्चे की जानकारी के बिना हिंदू से ईसाई बनाने का काम किया गया। उन्होंने कहा कि उन्हें ईसाई धर्म में परिवर्तित करने के बाद, एनजीओ ने उनकी बालिका का 5 महीने से अधिक समय तक शोषण किया।

यह सब तब हुआ जब बच्चा ग्लोबल फैमिली चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा चलाए जा रहे चाइल्ड केयर संस्थान में था।

अधिवक्ता दिब्यांशु पांडे के माध्यम से दायर एक याचिका में, पीड़िता की मां ने आरोप लगाया कि उनकी नाबालिग बेटी को उपरोक्त गैर सरकारी संगठनों के सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा फसाया गया, जिन्होंने उसे झूठी प्राथमिकी दर्ज कराई।

इस प्राथमिकी के चलते उन्हें ‘पांच’ दिनों के बाद बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया, जो कि किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) मॉडल नियम, 2016 के नियम 81(1) का सीधा उल्लंघन है।

अब मां की नाराजगी सीडब्ल्यूसी की ढिलाई पर है जिसके चलते चाइल्ड केयर इंस्टीट्यूशन के कई एनजीओ ने उन्हें परेशान किया और ईसाई धर्म अपनाने के लिए प्रेरित किया।

प्यार के नामपर धोका : नाम और धर्म छुपाकर दोस्ती, फिर शादी का झांसा देकर किया लड़की से रेप

उनका आरोप है कि किशोर न्याय (Care and Protection of Children) अधिनियम, 2015 के परिणामस्वरूप याचिकाकर्ता और उनकी बेटी को न्याय से वंचित किया गया है। साथ ही, भारतीय संविधान द्वारा प्रदान किए गए मौलिक अधिकारों का भी उल्लंघन किया गया है।

गौरतलब है कि पिछले कुछ वर्षों में ईसाई मिशनरी लगातार धर्मांतरण रैकेट चलाने को लेकर सुर्खियों में रहे हैं। वह भोजन, पेय, वित्तीय सहायता, स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करके जरूरतमंदों को ईसाई धर्म की ओर आकर्षित करता है।

पिछले साल मध्य प्रदेश के रायसेन में एक गर्ल्स हॉस्टल में चल रहे धर्मांतरण रैकेट का पर्दाफाश हुआ था। इसके अलावा पिछले साल ही ऑपइंडिया ने आपको बताया था कि कैसे ईसाई मिशनरियों ने कोविड का फायदा उठाकर लाखों से ज्यादा लोगों को ईसाई बनाया।

Crime News : कार मैकेनिक मुख्तार ने सीआरपीएफ जवान की पत्नी को फांसा, फिर गला घोंटकर की हत्या और नाले में फेंका शव

Also Read