Goat Farming Business : बकरी पालन से होगी भारी आमदनी, यहां से लें प्रशिक्षण

108
Goat Farming Business: Goat farming will generate huge income, take training from here

Goat Farming Business : बकरी पालन आज सबसे अधिक लाभदायक व्यवसायों में से एक माना जाने लगा है। इसके पीछे कारण यह है कि इसमें व्यापार की लागत कम और लाभ इससे कहीं अधिक होता है।

इस बिजनेस को कम पैसे में शुरू किया जा सकता है। यदि बकरी पालन का प्रशिक्षण ठीक से किया जाए तो इससे काफी लाभ कमाया जा सकता है।

भारत में कई संस्थान बकरी पालन प्रशिक्षण आयोजित करते हैं, जहां से आप इस व्यवसाय की बारीकियों को समझ सकते हैं और इससे प्रशिक्षण लेकर कई गुना मुनाफा कमा सकते हैं। Goat farming: Know the process of application and information about training

यह संस्थान बकरी पालन का प्रशिक्षण देता है

भारत में कई संस्थानों द्वारा बकरी पालन प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया जाता है, जिसमें बकरी पालन के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान, मखदूम, फराह, मथुरा (यूपी) द्वारा आयोजित किया जाता है।

प्रशिक्षण के दौरान पशुपालकों को नई तकनीक की जानकारी दी जाती है ताकि वे इस व्यवसाय में अधिक लाभ कमा सकें।

इसके साथ ही प्रशिक्षण के दौरान बकरी पालन के बारे में उनके आवास प्रबंधन, आहार प्रणाली, बीमारियों और उनकी रोकथाम के बारे में जानकारी दी जाती है।

कितने दिनों का प्रशिक्षण दिया जाता है

बकरी पालन का प्रशिक्षण सरकारी संगठनों द्वारा लगभग सात दिनों की अवधि के लिए दिया जाता है। इसके लिए इच्छुक व्यक्ति हर 2 महीने में आवेदन कर सकता है।

यह प्रशिक्षण आवासीय प्रशिक्षण है। यह प्रशिक्षण हर 2 महीने में यानी साल में एक बार मई, अगस्त, नवंबर और फरवरी के महीनों में आयोजित किया जाता है।

बकरी पालन प्रशिक्षण में क्या जानकारी दी जाती है

प्रशिक्षण में बकरियों की उन्नत किस्मों की जानकारी के साथ-साथ बकरी पालन व्यवसाय के लिए कौन सी उन्नत किस्म का चयन करना है, इसकी जानकारी दी जाती है।

इसके अलावा प्रशिक्षण में बकरी आवास प्रबंधन, आहार प्रणाली, बकरी से होने वाली बीमारियों और इसकी रोकथाम के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है।

बकरी पालन प्रशिक्षण में कितना खर्च आएगा 

बकरी पालन प्रशिक्षण के लिए आवेदन शुल्क यानी पंजीकरण शुल्क लिया जाता है। इसके लिए लाभार्थी को आवेदन शुल्क के रूप में 5500 रुपये का भुगतान करना होगा।

इसके साथ ही प्रत्येक प्रशिक्षु को संस्थानों में रहने के लिए अलग से 50 रुपये शुल्क देना होगा। इसके अलावा प्रशिक्षु को अपने भोजन के लिए प्रतिदिन लगभग 200 रुपये देने होंगे।

प्रशिक्षार्थी चाहें तो उनके आवास एवं भोजन की व्यवस्था संस्थान के बाहर भी कर सकते हैं। वहीं, आवेदक को अपनी यात्रा का खर्च खुद वहन करना होगा।

बकरी पालन प्रशिक्षण के लिए पात्रता/शर्तें

  • बकरी पालन का प्रशिक्षण लेने वाला व्यक्ति भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • प्रशिक्षु की आयु 18 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए।

बकरी पालन प्रशिक्षण के लिए आवेदन कब करें

बकरी पालन में प्रशिक्षण लेने के इच्छुक व्यक्ति संस्थान द्वारा प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू होने पर आवेदन कर सकते हैं।

इसके लिए प्रशिक्षण की तिथि समय-समय पर संस्थान की वेबसाइट www.cirg.res.in पर प्रसारित की जाती है।

इस दी गई तिथि के अनुसार आप प्रशिक्षण के लिए आवेदन कर सकते हैं, अन्यथा आवेदन पत्र स्वीकार नहीं किए जाते हैं।

बकरी पालन के लिए आवेदन कैसे करें

  • बकरी पालन प्रशिक्षण के लिए केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान (CIRG) की वेबसाइट खोलने के लिए www.cirg.res.in टाइप करें।
  • सीआईआरजी की वेबसाइट खुलने के बाद ट्रेनिंग के विकल्प पर क्लिक करें।
  • प्रशिक्षण के लिए आवेदन पत्र डाउनलोड करें, इसके दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए भरें और संस्थान के पते पर भेजें।
  • संस्थान का पता इस प्रकार है- निदेशक, केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान मकदूम फराह मथुरा उत्तर प्रदेश 221166
  • ध्यान रहे कि आप प्रशिक्षण तिथि के दौरान ही बकरी पालन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

अधिक जानकारी के लिए यहां संपर्क करें

बकरी पालन का प्रशिक्षण प्राप्त करने के इच्छुक व्यक्ति इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए संस्थाओं द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर 0565-2970999, 09682143097 पर संपर्क कर सकते हैं।

बकरी पालन : केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान के बारे में

केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान (सीआईआरजी) भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) का एक प्रमुख अनुसंधान संस्थान है, जो कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग, कृषि मंत्रालय, भारत सरकार के तहत एक स्वायत्त संगठन है।

संस्थान की स्थापना 12 जुलाई 1979 को हुई थी। इस संस्थान का उद्देश्य गरीब पुरुषों की गायों और बकरियों को आजीविका सुरक्षा प्रदान करने के साथ-साथ गरीबी उन्मूलन और उन्हें छोटे जोत के लिए रोजगार सृजन के स्रोत के रूप में विकसित करना है।

इस संस्थान का मिशन अनुसंधान, विस्तार और मानव संसाधन विकास सहायता के माध्यम से मांस, दूध और फाइबर के संबंध में बकरी की उत्पादकता को बढ़ाना और बनाए रखना है।

संस्थान का अधिदेश बुनियादी और अनुप्रयुक्त अनुसंधान करना और बकरी उत्पादन और उत्पाद उपयोग के सभी विषयों में प्रशिक्षण प्रदान करना है।