मुस्लिम कंट्रोल से बाहर हुए तो तुम्हें कहीं पनाह नहीं मिलेगी : मौलाना का भड़काऊ भाषण

310
If Muslims are out of control, you will not find shelter anywhere: Maulana's provocative speech

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बरेली से मुस्लिम समुदाय के एक सम्मेलन का वीडियो सामने आया है। इसमें एक कट्टरपंथी मौलाना को हजारों की भीड़ को संबोधित करते देखा जा सकता है। 

इस दौरान कई विवादित कमेंट भी किए गए। इस शख्स ने कहा कि अगर मुस्लिम युवा कानून अपने हाथ में लेते हैं तो आपको (हिंदुओं को) भारत में कहीं भी शरण नहीं मिलेगी।

उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीक हैं और इस वजह से राज्य में धार्मिक कट्टरपंथियों द्वारा सांप्रदायिकता को हवा दी जा रही है।

इसी सिलसिले में शुक्रवार (7 जनवरी, 2022) को पश्चिम उत्तर प्रदेश के बरेली में मुस्लिम समुदाय की ओर से एक बड़ा सम्मेलन आयोजित किया गया.

इसमें एक मुस्लिम मौलाना ने भीड़ को संबोधित करते हुए कई विवादित बयान दिया है। मौलाना की पहचान आईएमसी प्रमुख तौकीर रजा खान के रूप में हुई है।

गौरतलब है कि बरेली में मुस्लिम धर्म संसद में लिए गए फैसले के बाद आईएमसी प्रमुख मौलाना तौकीर रजा ने 20 हजार मुसलमानों के साथ शहादत का ऐलान किया था। इसी सिलसिले में शुक्रवार को हजारों की संख्या में मुसलमान इस्लामिया मैदान पर जमा हुए.

मौलाना ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि देश में मुस्लिम समुदाय के लोगों पर अत्याचार होते हैं। उनकी बहनों और बेटियों को बरगलाने के लिए कहा जाता है, हमेशा कुरान और पैगंबर का अपमान किया जाता है, तो वे खून के घूंट पीते हैं, लेकिन अब उनके धैर्य का पैमाना टूट गया है।

मौलाना ने आगे कहा: “लड़ाई हमारे खून में है, हम पैदाइशी लड़ाके हैं।”

मौलाना ने अपने बयान में सत्ता पर भी निशाना साधते हुए कहा कि बेईमान हुकूमत अपने आतंकवादियों को भेज दे।  योगी अपनी पुलिस को भेज दें वे पीछे नहीं हटेंगे। साथ ही यह धमकी भी दी गई कि अगर मुस्लिम समुदाय पर कोई कार्रवाई हुई तो अगले जुमे को भी इसी प्रकार हज़ारों की भीड़ बरेली में इकट्ठा होगी।

“कानून हाथ में लिया तो कहीं पनाह नहीं मिलेगी”

आगे मौलाना तौकीर ने मुस्लिम भीड़ को संबोधित करते हुए हिंदू समुदाय के लिए आपत्तिजनक टिप्पणी की, जिसमें उन्होंने कहा:

“जिस दिन मेरा नौजवान मेरे कंट्रोल से बाहर हो गया। मैं हिंदू भाइयों से खास तौर पर कह रहा हूँ कि मुझे उस वक्त से डर लगता है जिस दिन मेरा यह नौजवान कानून अपने हाथ में ले लेगा, उस दिन तुम्हें (हिंदुओं को) हिंदुस्तान में कहीं पनाह नहीं मिलेगी।”

तौकीर मियां ने आगे कहा कि वह देश में अमन चैन चाहते हैं लेकिन अब उनके धैर्य का पैमाना टूट गया है. वे अपने देश से प्यार करते हैं और आप (हिंदुओं) की तरह विश्वासघाती और बेईमान नहीं हैं।

बता दें कि मौलाना तौकीर ने इस रैली के सम्मेलन के लिए प्रशासन से महज 300 लोगों की अनुमति ली थी, लेकिन इस रैली में हजारों की संख्या में लोग पहुंचे।

रैली में कोरोना के नियमों को ध्यान में रखते हुए सारे प्रोटोकॉल तोड़े गए और लोगों ने मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना भी जरूरी नहीं समझा।

सम्मेलन की अनुमति और बयानबाजी के संबंध में एसएसपी रोहित सिंह सजवान ने कहा 

“मौलाना तौकीर की सभा को लेकर किसी ने कोई शिकायत नहीं की है। उनके बयानों और सभा स्थल की भीड़, अनुमति की शर्तों के उल्लंघन के मामले में जाँच कराई जा रही है। जाँच रिपोर्ट मिलने के बाद कार्रवाई होगी।”

यह पहली बार नहीं है जब उत्तर प्रदेश चुनाव में इस तरह की सांप्रदायिक बयानबाजी हुई हो। कुछ समय पहले एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी एक रैली के दौरान प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी का नाम लेते हुए विवादित टिप्पणी की थी।

ओवैसी ने अपनी टिप्पणी में देश की पुलिस और बहुसंख्यक आबादी को धमकी देते हुए कहा था कि योगी और मोदी हमेशा नहीं रहेंगे। जब ये लोग चले जाएंगे, तो कौन बचाएगा? देश का मुस्लिम समुदाय कुछ भी नहीं भूलेगा।