Kanpur Violence | पुलिस को बड़ी कामयाबी, मुख्य आरोपी हयात जफर हाशमी लखनऊ से गिरफ्तार

44
Kanpur Violence

Kanpur Violence | कानपुर हिंसा मामले के मुख्य आरोपी हयात जफर हाशमी को पुलिस ने लखनऊ के हजरतगंज से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि इस मामले में अब तक 24 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

कानपुर के पुलिस आयुक्त विजय सिंह मीणा ने बताया कि ह्यूमन इंटेलिजेंस को पता चला था कि आरोपी शहर छोड़कर जा रहे हैं।

कमिश्नर ने बताया कि एक आरोपी जावेद अहमद का एक यूट्यूब चैनल जो लखनऊ के हजरतगंज का है। पुलिस को पता चला था कि सभी आरोपी इसी चैनल के दफ्तर में छिपा हैं।

कानपुर सांप्रदायिक हिंसा

जिसके बाद मुख्य साजिशकर्ता हयात जफर हाशमी के अलावा जावेद अहमद खान, मोहम्मद राहिल और मो. सुफियान को गिरफ्तार कर लिया गया।

उन्होंने बताया कि आरोपियों के पास से छह मोबाइल फोन मिले हैं, जिनकी जांच की जा रही है। इसके अलावा उनके बैंक खातों की भी जांच की जाएगी।

उन्होंने बताया कि इस मामले में अब तक 36 आरोपियों की पहचान हो चुकी है। जल्द ही सभी को गिरफ्तार कर एनएसए, गुंडा एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी साथ ही सभी की संपत्ति भी जब्त कर ली जाएगी।

कोर्ट से मांगा जाएगा 14 दिन का रिमांड

पुलिस आयुक्त ने बताया कि उन्होंने पूछताछ में 5-6 लोगों के नाम बताए हैं। आरोपी को कोर्ट में पेश कर 14 दिन की रिमांड मांगी जाएगी, ताकि विस्तृत पूछताछ की जा सके।

कानपुर सांप्रदायिक हिंसा

पुलिस ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज, वॉट्सऐप मैसेज और वीडियो के आधार पर अब 36 लोगों की पहचान कर ली गई है. सभी को गिरफ्तार कर एनएसए व गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। सभी की संपत्ति जब्त कर ली जाएगी।

कानपुर दंगों में नाम आ चुका है

हयात जफर हाशमी पर हिंसा फैलाने और लोगों को भड़काने का आरोप है। इससे पहले उनका नाम सीएए-एनआरसी के खिलाफ हिंसक प्रदर्शनों में भी सामने आया था।

हयात जफर हाशमी मौलाना मुहम्मद जौहर अली फैन्स एसोसिएशन के संचालक हैं। उनका नाम पहले कानपुर में हुए दंगों में सामने आया था।

कानपुर दंगे का मुख्य आरोपी हयात जफर हाशमी गिरफ्तार, हिंसा का कनेक्शन पॉपुलर  फ्रंट ऑफ इंडिया से - JOI.com

सीएए-एनआरसी के विरोध में हयात जफर हाशमी की भूमिका की भी जांच की जा रही थी। इस मामले में कानपुर के कर्नलगंज थाने में हयात जफर हाशमी के खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

बताया जा रहा है कि उस वक्त भी जफर हाशमी ने लोगों को फेसबुक के जरिए ही विरोध करने के लिए इकट्ठा होने को कहा था।

फेसबुक लाइव से लेकर पोस्टर तक, इसमें लोगों को प्रदर्शन के लिए एकजुट करने का एक पुराना पैटर्न है। सीएए-एनआरसी हिंसा के दौरान भी हाशमी ने उसी पैटर्न का पालन किया और लोगों को इकट्ठा किया। इस हिंसा में तीन लोगों की मौत हो गई थी।

अब तक 35 दंगाइयों को पकड़ा जा चुका है

आपको बता दें कि हाल ही में एक न्यूज चैनल पर बहस के दौरान बीजेपी प्रवक्ता नुपुर शर्मा ने कथित तौर पर पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी, जिससे अल्पसंख्यक समुदाय के लोग नाराज थे।

इसके विरोध में मुस्लिम पक्ष ने जुलूस निकाला। इस दौरान हिंसा भड़क गई। एडीजी यूपी प्रशांत कुमार अब तक 35 दंगाइयों को पकड़ा जा चुका है, आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट लगाने की तैयारी की जा रही है।

Kanpur Violence

इसके साथ ही घरों पर बुलडोजर भी चलेंगे। इस मामले में 40 आरोपियों को नामजद किया गया है, जबकि तीन प्राथमिकी दर्ज की गई है।

यतीमखाना इलाके से शुरू हुआ हंगामा?

हिंसा की शुरुआत यतीमखाना इलाके की मुख्य सड़क और बाजार से हुई। पहले धर्म के नाम पर सामने आए दो गुटों के बीच बहस हुई। इसके बाद कहासुनी हुई और फिर पथराव शुरू हो गया।

जब तक पुलिस मौके पर पहुंची, तब तक सड़क पर पत्थर बिखरे पड़े थे, बाजार बंद थे, कई वाहनों में तोड़फोड़ की जा चुकी थी।

Kanpur Violence Main Accused Of Violence Zafar Hayat Hashmi Wife Claim That  Arrested By STF Ann | Kanpur Violence: कानपुर हिंसा का मुख्य आरोपी जफर हयात  हाशमी गिरफ्तार, अबतक 36 लोगों की

पुलिस ने दंगाइयों को तितर-बितर करना शुरू किया तो ये लोग भीतरी बस्ती और संकरी गलियों में घुस गए और वहीं से पुलिस को ही निशाना बनाना शुरू कर दिया, जिसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। काफी देर तक पथराव होता रहा।

आसपास के थानों से भी पुलिस बुलानी पड़ी। इस दौरान पुलिस को दंगाइयों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस छोड़नी पड़ी।

देर रात पुलिस ने स्थिति पर काबू पाया। इसके बाद कमिश्नर डीएम और पुलिस कमिश्नर ने पूरी फोर्स, पीएसी और आरएएफ के साथ हिंसा प्रभावित इलाकों में फ्लैग मार्च किया.

एफआईआर में हिंसा की घटना

हिंसा से जुड़े मामले में कानपुर पुलिस ने तीन प्राथमिकी दर्ज की हैं जिसमें एक ही समुदाय के 36 लोगों के नाम हैं और इसके अलावा कुछ अन्य लोग भी शामिल हैं। दोपहर साढ़े तीन बजे प्राथमिकी में घटना का समय बताया गया है।

एक पुलिस कर्मी द्वारा दर्ज की गई प्राथमिकी में लिखा गया है, “नूपुर शर्मा के कथित बयान, मोहम्मद साहब पर की गई टिप्पणी को लेकर कुछ अराजक तत्वों द्वारा बाजार बंद का आह्वान किया गया था।”

प्राथमिकी में यह भी लिखा है कि, ”शुक्रवार की नमाज के बाद शहर के बाबा चौक पर बाजार को जबरन बंद कर दिया गया और जुलूस के रूप में आपत्तिजनक नारेबाजी की गयी.”

आरोप है कि शहर के पेंचबाग चौराहे पर ”एमएमए जौहर फैन्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हयात जफर हाशमी भीड़ का नेतृत्व कर रहे थे.”

कानपुर हिंसा का मुख्य आरोपी गिरफ्तार, STF के हाथ लगी बड़ी सफलता

पुलिस का कहना है कि उन्होंने जुलूस को आगे न बढ़ाने की अपील की, लेकिन इसके बावजूद 500 लोगों की भीड़ ने लाठी-डंडे, हथियार, पत्थर से लैस होकर हमला कर दिया और उन्हें मारने की नीयत से गोलियां चला दीं।

कानपुर में मुस्लिम संगठन क्यों विरोध कर रहे हैं?

दरअसल, कानपुर स्थित संगठन एमएमए जौहर फैन्स एसोसिएशन ने पैगंबर मोहम्मद पर बीजेपी प्रवक्ता की आपत्तिजनक टिप्पणी के विरोध में मुस्लिमों से 3 जून को कारोबार बंद रखने की अपील जारी की थी।

इस अपील से जुड़े वायरल पोस्टर में यह भी लिखा था कि बंद के लिए मज़हबी भाइयों पर कोई दबाव नहीं डाला जाएगा।

एमएमए जौहर फैन्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हयात जफर हाशमी ने भी भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए स्थानीय प्रशासन को एक ज्ञापन सौंपा था और उनकी गिरफ्तारी की मांग की थी।

लेकिन शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कानपुर जिले में एक कार्यक्रम था। एमएमए जौहर फैन्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हयात जफर हाशमी के एक बयान का एक वीडियो भी वायरल है।

Kanpur Violence So Far 36 Arrested In Kanpur Violence Case PFI Claims  Conspiracy Police Is Searching For The Mastermind Know 10 Big Things |  Kanpur Violence: कानपुर हिंसा मामले में अब तक

जिसमें वह कह रहे हैं कि 5 जून को सुबह 11 बजे कानपुर में सपा विधायक इरफान सोलंकी के कार्यालय के पास जेल भरो आंदोलन होगा और लोगों से अपील कर रहे हैं। यह है कि वे बड़ी संख्या में जेल भरो आंदोलन का हिस्सा बनें।

इसी वीडियो में वे कहते हैं, ”3 तारीख को हमारा आह्वान था कि दुकानें बंद रहे. 3 तारीख को हमारे पास कानपुर में प्रधानमंत्री हैं, देश के राष्ट्रपति आ रहे है।

प्रशासन ने कहा कि 3 तारीख को आप कार्यक्रम रद्द कर दें. 5 तारीख को प्रशासन पूरा सहयोग करेगा। प्रशासन की बातों पर विश्वास करते हुए हमने 5 का कार्यक्रम रखा है।

यह बयान देने वाले और जेल भरो और बाजार बंद का आह्वान करने वाले हयात जफर हाशमी का नाम पुलिस की दो प्राथमिकी में आरोपी नंबर एक है।

कानपुर पर हुई सियासत गर्म

शहर में हिंसा की घटना और तनाव के बाद इस मुद्दे पर यूपी में सियासत भी गर्म हो गई है. सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने इस मामले में ट्वीट कर कहा कि, “महामहिम राष्ट्रपति जी, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के नगर में रहते हुए भी पुलिस और खुफिया-तंत्र की विफलता से भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा दिए गए भड़काऊ बयान से, कानपुर में जो अशांति हुई है, उसके लिए भाजपा नेता को गिरफ़्तार किया जाए. हमारी सभी से शांति बनाए रखने की अपील है.”