Motor vehicle act : क्या ट्रैफिक पुलिस को गाडी की चाबी निकालने का अधिकार है?

161
Motor vehicle act: Does the traffic police have the right to extract the keys of the car?

Motor Vehicle Act केंद्र सरकार ने नया Motor Vehicle Act लागू किया था, जिसके बाद सड़कों पर ट्रैफिक नियम पहले से ज्यादा सख्त हो गए।

एक्ट के तहत जुर्माने की नई दर तय की गई, जो पहले से कई गुना ज्यादा है। सरकार की ओर से दावा किया जा रहा है कि नए नियम लागू होने के बाद सड़क हादसों में कमी आई है।

वहीं मोटर व्हीकल एक्ट 2019 को लेकर दुपहिया और चौपहिया वाहन चालकों के मन में कई तरह के सवाल रहते हैं।

अक्सर देखा जाता है कि ट्रैफिक पुलिस किसी भी चालक को थपकी देकर रोक देती है और उसकी बाइक की चाबी निकाल लेती है।

ऐसे मामले सामने आते रहते हैं जिसमें पुलिसकर्मी वाहन चालकों को धमकाते हैं और बिना उनकी गलती के उनका चालान काट देते हैं।

Traffic police to sent to notice of for unpaid challan | ट्रैफिक पुलिस घरों पर भेजेगी चालान

लेकिन नियमों के मुताबिक ट्रैफिक पुलिस को ऐसा करने का अधिकार नहीं है. अगर ट्रैफिक पुलिस ऐसा करती है तो यह अवैध है।

ऐसे में अगर ट्रैफिक पुलिस आपको सिग्नल देकर रोकती है तो रुक जाइए, लेकिन अगर आप अपनी चाबियां निकालने लगें तो इसका सबूत बनाकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराएं।

इसके अलावा मोटर व्हीकल एक्ट ट्रैफिक पुलिस को वाहन चालक को पीटने और गाली-गलौज करने का अधिकार नहीं देता है।

नाकाबंदी के दौरान पुलिस को जांच के लिए हाथ दिखाकर चालक को रोकने का अधिकार है। साथ ही सड़क पर वाहन निरीक्षण के समय मोटर वाहन अधिनियम के अनुसार वाहन के सभी दस्तावेज जमा करने होंगे।

लेकिन ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करना गलत है। अनुपालन नहीं करने पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। मोटर वाहन अधिनियम की धाराओं/नियमों का उल्लंघन अपराध है।

  • बिना सीटबेल्ट के गाड़ी चलाना
  • बिना हेलमेट के बाइक चलाना
  • बिना लाइसेंस / परमिट के गाड़ी चलाना
  • यदि गति सीमा का उल्लंघन किया जाता है
  • बीमा के बिना ड्राइविंग
  • नियंत्रण प्रमाण पत्र के तहत वैध प्रदूषण का अभाव
  • शराब या नशीली दवाओं के प्रभाव में ड्राइविंग
  • अतिरिक्त यात्रियों का परिवहन
  • आवश्यक वाहनों को रोकना
  • नाबालिग होने पर गाड़ी चलाना
  • बिना लाइसेंस वाले इस्मास को गाड़ी चलाने की अनुमति देना
  • वाहन चलाते समय मोबाइल का उपयोग करना
  • अपंजीकृत वाहन चलाना
  • इस तरह से वाहन छोड़ना होगा खतरनाक
  • यातायात संकेतों का उल्लंघन
  • नाम, पता व लाइसेंस की जानकारी नहीं देना
  • वर्दीधारी पुलिस अधिकारी द्वारा निर्देश दिए जाने या रुकने की चेतावनी के बाद रुकें नहीं
  • दुर्घटना की सूचना थाने में नहीं देना
  • वाहनों में गति, परीक्षण या दौड़
  • ज्वलनशील और विस्फोटक सामग्री ले जाने वाले वाहन में यात्रा करना
  • चलती गाड़ी की छत या बोनट पर यात्रा करने वाला कोई भी व्यक्ति
  • कार में नंबर प्लेट नहीं है
  • नो पार्किंग, पार्किंग सिग्नल
  • लापरवाही और लापरवाही से वाहन चलाना

ट्रैफिक पुलिस द्वारा रोका गया तो

कई लोगों को अपने पूरे जीवन में कम से कम एक बार ट्रैफिक पुलिस द्वारा रोके जाने का अनुभव हुआ होगा। ट्रैफिक पुलिस रोके भी तो चिंता की कोई बात नहीं है।

Traffic Rule in UP: यूपी ने लागू हुआ नया ट्रैफिक नियम, पढ़ लें वरना लगेगा भारी चूना

  1. लेकिन एक जागरूक नागरिक के रूप में आपको यातायात के नियमों और अधिकारों को जानना चाहिए।
  2. यदि ट्रैफिक पुलिस आपके वाहन को रोककर आपसे जुर्माना मांगती है तो पुलिस के पास चालान बुक या ई-चालान मशीन होना अनिवार्य है। यदि पुलिस के पास इनमें से एक भी नहीं है, तो भी वे आपसे जुर्माना वसूल नहीं कर सकते।
  3. अगर ट्रैफिक पुलिस आपके वाहन को रोकती है, तो पहले अपने वाहन को सड़क के किनारे ले जाएं। नियमानुसार ड्राइविंग लाइसेंस दिखाना अनिवार्य है और इसे सौंपने की जरूरत नहीं है।
  4. ट्रैफिक पुलिस का सहयोग करें। उनसे बहस करने से बचें। अगर कुछ गलत होता है तो पुलिस को समझाएं।
  5. अपनी पूरी क्षमता से कम के लिए मत जाओ। गलती से उन्हें रिश्वत देने की कोशिश न करें।
  6. जब पुलिस आपके वाहन को जब्त करे, तो उसका बकल नंबर और नाम दर्ज करें।
  7. यदि आपके वाहन का प्रभारी पुलिस अधिकारी सब-इंस्पेक्टर या उससे ऊपर का है, तो आप अपनी गलती की सजा देकर उन्हें मुआवजा दे सकते हैं।
  8. यदि नहीं, तो पुलिस से उसकी आईडी मांगें। यदि आप पहचान पत्र दिखाने से इनकार करते हैं, तो आप दस्तावेज़ प्रदान करने से भी मना कर सकते हैं।
  9. यदि आपका वाहन बिना लाइसेंस या लाइसेंस के गाड़ी चलाते हुए पाया जाता है, तो पुलिस आपके वाहन को जब्त कर सकती है। यदि वाहन पंजीकृत नहीं है, तो वे इसे जब्त कर सकते हैं।
  10. बिना वैध रसीद के ट्रैफिक पुलिस आपका ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त नहीं कर सकती है। नियम तोड़ने पर ड्राइविंग लाइसेंस रद्द किया जा सकता है।
  11. जब आप कार में हों तो पुलिस आपकी कार को टो नहीं कर सकती। केवल अगर आपकी कार में कोई नहीं है तो उन्हें इसे लेने का अधिकार है।
  12. यदि आपका वाहन किसी अपराध में पुलिस द्वारा जब्त कर लिया गया है, तो आपको अगले 24 घंटों के भीतर पूछताछ के लिए अदालत में पेश होना होगा।
  13. अगर ट्रैफिक पुलिस आपको परेशान करती है तो आप उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकते हैं।
  14. संक्षेप में, उन्हें यातायात पुलिस को गाली दिए बिना अनुशासित दस्तावेज दिखाए जाने चाहिए। हमें सरकारी काम में बाधा डालने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।
  15. लेकिन अगर ट्रैफिक पुलिस आपकी गाड़ी की चाभी निकाल ले, जबरदस्ती करे या बेवजह मारपीट करे तो यह नियम के मुताबिक नहीं है। आप उन्हें नियमित रूप से रिपोर्ट कर सकते हैं। आप इसमें घटना को रिकॉर्ड भी कर सकते हैं।

ट्रैफिक पुलिस द्वारा रोके जाने पर ये नियम निश्चित रूप से आपके काम आएंगे

यदि आप भारत में दोपहिया या चार पहिया वाहन चालक हैं, तो आपने अपने जीवन में कम से कम एक बार अपने वाहन को यातायात पुलिस द्वारा रोके जाने का अनुभव किया होगा।

यदि आपको ट्रैफिक पुलिस द्वारा रोका जाता है तो चिंता की कोई बात नहीं है, लेकिन एक जागरूक नागरिक के रूप में आपको यातायात के नियमों और विनियमों को जानना चाहिए। आज हम विशेष रूप से आपकी जानकारी के लिए परिवहन के कुछ महत्वपूर्ण नियमों के बारे में जानेंगे।

1. अगर ट्रैफिक पुलिस आपके वाहन को रोककर आपसे जुर्माना मांगती है तो ट्रैफिक पुलिस के पास चालान बुक या ई-चालान मशीन होना अनिवार्य है। यदि पुलिस के पास इनमें से एक भी नहीं है, तो भी वे आपसे जुर्माना वसूल नहीं कर सकते।

2. यदि आपका वाहन यातायात पुलिस द्वारा रोका जाता है, तो आपको सबसे पहले वाहन को सड़क के किनारे ले जाना चाहिए और उन्हें पुलिस द्वारा आवश्यक दस्तावेज प्रदान करना चाहिए। हमेशा याद रखें कि केवल ड्राइविंग लाइसेंस दिखाना अनिवार्य है। तो फिर आप उन दस्तावेजों को पुलिस को क्यों नहीं सौंप देते।

मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 130 के तहत, एक वाहन का चालक एक ट्रैफिक पुलिसकर्मी को उसके लाइसेंस की जांच करने के लिए रोक सकता है यदि वह पुलिस की वर्दी में नहीं है। और एक नियम के रूप में, पुलिस को केवल लाइसेंस दिखाने की आवश्यकता होती है और इसे सौंपने की कोई आवश्यकता नहीं होती है।

3. आपको ट्रैफिक पुलिस का सहयोग करना चाहिए और उनसे बहस करने से बचना चाहिए। अगर कुछ गलत होता है, तो पुलिस को समझाएं, ताकि वे आपको रिहा कर सकें।

4. यदि आप रेड लाइट सिग्नल पर गाड़ी चलाते हैं, बिना पार्किंग में पार्क करते हैं, बिना हेलमेट के ड्राइव करते हैं, सीमा से अधिक तेज ड्राइव करते हैं, कार में धूम्रपान करते हैं, बिना नंबर प्लेट के ड्राइव करते हैं, बिना लाइसेंस के ड्राइव करते हैं, बिना आरटीओ पंजीकरण के ड्राइव करते हैं ड्राइविंग, वैध बीमा या वैध प्रदूषण के तहत नियंत्रण प्रमाणपत्र को भारत में सभी को अपराधी बनाया जा सकता है।

5. अगर पुलिस आपसे अनाधिकृत रूप से पैसे की मांग करती है, तो उसे पूरा न करें। गलती से पुलिस को रिश्वत देने की कोशिश न करें।

जब आपका वाहन ट्रैफिक पुलिस द्वारा जब्त कर लिया जाता है, तो उसका बकल नंबर और नाम दर्ज करें। अगर उसके पास बकसुआ नहीं है, तो पुलिस से उसकी आईडी मांगें। अगर पुलिस आपको देने से मना करती है तो आप दस्तावेज देने से भी मना कर सकते हैं।

6. यदि आपके वाहन को जब्त करने वाला पुलिस अधिकारी सब-इंस्पेक्टर या उच्चतर है, तो आप उनके साथ की गई गलती के लिए जुर्माना देकर अपने अपराध का निपटारा कर सकते हैं।

7. अगर आप बिना लाइसेंस या लाइसेंस के गाड़ी चलाते हुए पाए जाते हैं, तो पुलिस आपके वाहन को जब्त कर सकती है। अगर आपका वाहन पंजीकृत नहीं है तो भी पुलिस उसे जब्त कर सकती है।

8. बिना वैध रसीद के ट्रैफिक पुलिस आपका ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त नहीं कर सकती है। यदि आप सिग्नल तोड़ते हैं, अधिक वजन वाले वाहन में वाहन चलाते हैं।

शराब के नशे में वाहन चलाते हैं या वाहन चलाते समय मोबाइल का उपयोग करते हैं तो आपका ड्राइविंग लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है।

9. जब आप कार में बैठे होंगे तो ट्रैफिक पुलिस आपका टैक्स नहीं ले पाएगी। अगर आपकी कार में कोई कोना नहीं है तो ही उन्हें इसे लेने का अधिकार है।

10. यदि आपका वाहन ट्रैफिक पुलिस द्वारा किसी अपराध में जब्त कर लिया जाता है, तो आपको अगले 24 घंटों के भीतर पूछताछ के लिए अदालत में पेश होना होगा।

11. अगर ट्रैफिक पुलिस आपको परेशान करती है तो आप उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसमें घटना की पूरी जानकारी दर्ज होनी चाहिए।

यदि आप वादी हैं या आपका चालान किया गया है तो उसमें निम्न जानकारी का होना अनिवार्य है।

1. उपस्थित होने वाले न्यायालय का नाम और पता, 2. किए गए अपराध का विवरण, 3. हाजिरी की तिथि, 4. सभी वाहन की जानकारी, 5. अपराधी का नाम और पता, 6. लेने वाले अधिकारी का नाम और पता चालान, 7. जब्त किए गए दस्तावेजों का विवरण।