New Rules in June : 1 जून से देश में होने जा रहे हैं ये बड़े बदलाव, जानिए कैसे बढ़ेगा आपकी जेब पर बोझ

51
New Rules in June

New Rules in June: आप कहीं काम कर रहे होंगे और वहां कि नीतीयो में बदलाव होता है, तो उसका सीधे असर तुम पर होता है। कुछ बदलाव आप को असह्ज होने पर भी मानने पडते है।

ऐसेही कूछ बदलाव होने जां रेहे है, जिसका सीधे असर होनेवाला है, इन सभी चीजों का सीधा असर आम आदमी की जेब पर पड़ता है।

वहीं मई का महीना अपने आखिरी चरण में है और इसके कुछ ही दिन बाकी हैं जिसके बाद जून का महीना लगेगा तो हर बार की तरह आपको कुछ बड़े और छोटे बदलाव देखने को मिलेंगे।

साथ ही आपके लिए इन बदलावों के बारे में जानना जरूरी हो जाता है क्योंकि इनका सीधा असर आपकी जेब पर पड़ने वाला है। तो आइए जानते हैं 1 जून से कौन-कौन से बड़े बदलाव होने जा रहे हैं।

SBI ने होम लोन की दरें बढ़ाईं

SBI ने अपने होम लोन एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट (EBLR) को 40 बेसिस प्वाइंट बढ़ाकर 7.05 फीसदी कर दिया है। जबकि आरएलएलआर 6.65 फीसदी प्लस सीआरपी होगा। ऐसे में ब्याज दरें बढ़ेंगी और ये 1 जून 2022 से प्रभावी होंगी।

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस महंगा

अगर आप 1 जून 2022 से थर्ड पार्टी व्हीकल का इंश्योरेंस कराते हैं, तो अब यह महंगा होने वाला है। पहले के मुताबिक 1 जून से आपको ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी। यह दो और चार पहिया वाहनों दोनों के लिए लागू होगा।

वहीं, यह प्रीमियम इंजन की क्षमता के अनुसार चुकाना होगा। मंत्रालय के मुताबिक, अब 1,000 सीसी से कम इंजन क्षमता वाले वाहनों को थर्ड पार्टी बीमा के लिए 2,094 रुपये का निश्चित प्रीमियम देना होगा।

जबकि 2019-20 में यह 2,072 रुपये था। वहीं, नोटिफिकेशन के मुताबिक टू व्हीलर के लिए थर्ड पार्टी इंश्योरेंस भी महंगा होने वाला है।

एक्सिस बैंक बदलेगा सेविंग अकाउंट के नियम

बचत खाते में औसत मासिक शेष की सीमा 1 जून, 2022 से 15,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये या अर्ध-शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में 1 लाख रुपये की सावधि जमा की सीमा को 1 जून, 2022 से बढ़ा दिया गया है। लिबर्टी सेविंग अकाउंट के लिए 15,000 रुपये से 25,000 रुपये या 25,000 रुपये।

आईपीपीबी बैंक शुल्क लागू

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) ने कहा है कि आधार सक्षम भुगतान प्रणाली (एईपीएस) के लिए जारीकर्ता शुल्क लागू कर दिया गया है। यह शुल्क 15 जून 2022 से लागू किया जाएगा।

इसमें फ्री लेन देने के बाद प्रत्येक नकद निकासी या नकद जमा पर 20 रुपये प्लस जीएसटी लगेगा। वहीं, मिनी स्टेटमेंट ट्रांजैक्शन पर 5 रुपये प्लस जीएसटी लगेगा।

Also Read