संसद में नहीं होगा बीजेपी का कोई मुस्लिम सांसद, लोकसभा के बाद अब राज्यसभा से भी गायब 

27
No Muslim MP of BJP will be in Parliament, now missing from Rajya Sabha after Lok Sabha

नई दिल्ली: इस समय राज्यसभा चुनाव को लेकर देश की राजनीति में चर्चा हो रही है। बीजेपी, कांग्रेस समेत अन्य पार्टियों ने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी है।

बीजेपी की ओर से जारी 22 उम्मीदवारों की लिस्ट में कोई मुस्लिम चेहरा शामिल नहीं है। वहीं बीजेपी की ओर से राज्यसभा में पार्टी से आए मुस्लिम चेहरों का कार्यकाल खत्म होने जा रहा है।

बीजेपी के राज्यसभा में जिन तीन मुस्लिम सांसदों का कार्यकाल खत्म हो रहा है, वे हैं मुख्तार अब्बास नकवी, सैयद जफर इस्लाम और एमजे अकबर।

उनका कार्यकाल कुछ दिनों में खत्म हो रहा है और बीजेपी ने उन्हें दोबारा मैदान में नहीं उतारा है। लोकसभा में भाजपा की ओर से पहले से कोई मुस्लिम सांसद नहीं है।

नकवी, सैयद जफर इस्लाम और एमजे अकबर का कार्यकाल

मुख्तार अब्बास नकवी वर्तमान में केंद्र में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री हैं और राज्यसभा सांसद के रूप में उनका कार्यकाल 7 जुलाई को समाप्त हो रहा है।

नियमों के अनुसार, यदि 6 महीने के भीतर वो संसद के किसी भी सदन के सदस्य नहीं बने तो उनका मंत्री पद भी जाना तय है।

वहीं, पार्टी के प्रवक्ता सैयद जफर इस्लाम का कार्यकाल 4 जुलाई को समाप्त हो रहा है। वहीं, एमजे अकबर का कार्यकाल 29 जून को समाप्त हो रहा है।

साल 2020 में बीजेपी ने सपा नेता अमर सिंह के निधन के बाद खाली हुई राज्यसभा सीट के लिए सैयद जफर इस्लाम को उम्मीदवार बनाया था, 2020 सितम्बर महीने में वो चुनकर राज्यसभा पहुंचे थे।

जफर इस्लाम बीजेपी के प्रवक्ता हैं और कहा जाता है कि केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को बीजेपी में लाने में इस्लाम की अहम भूमिका थी।

क्या मुख्तार अब्बास नकवी रामपुर से लड़ेंगे चुनाव?

मुख्तार अब्बास नकवी के यूपी की रामपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की अटकलें लगाई जा रही हैं। सपा नेता आजम खान के इस्तीफे के बाद खाली हुई इस सीट पर उपचुनाव की घोषणा हो गई है।

मुख्तार अब्बास नकवी इससे पहले रामपुर से लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं। 1998 में रामपुर से चुनाव जीतकर वे पहली बार लोकसभा पहुंचे और वाजपेयी सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्री भी बने। बीजेपी की नजर इस बार रामपुर सीट पर है।

रामपुर के इतिहास में पहली बार लोकसभा सीट पर उपचुनाव हो रहा है। हालांकि नकवी के यहां से चुनाव लड़ने को लेकर पार्टी के किसी नेता की ओर से कोई बयान सामने नहीं आया है।

वहीं, राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत किए जाने वाले सांसदों में से 7 सीटें खाली हैं। ऐसे में यह भी कहा जा रहा है कि हो सकता है कि पार्टी के प्रबुद्ध मुस्लिम चेहरे को नामांकन के जरिए उच्च सदन में लाया जाए।

लोकसभा में बीजेपी का कोई मुस्लिम सांसद नहीं है

बीजेपी के पास पहले से लोकसभा में कोई मुस्लिम सांसद नहीं है। पिछले लोकसभा यानि 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी ने कुछ मुस्लिम चेहरों को मैदान में उतारा था लेकिन किसी को जीत नहीं मिली थी।

वहीं एनडीए की बात करें तो महबूब अली कैसर बिहार से इकलौता मुस्लिम चेहरा हैं, जिन्होंने लोजपा के टिकट पर चुनाव जीता है।

जफर इस्लाम, शाहनवाज हुसैन, एमजे अकबर, मुख्तार अब्बास नकवी, आरिफ बेग, सिकंदर बख्त और नजमा हेपतुल्ला जैसे मुस्लिम नेता बीजेपी से सांसद रह चुके हैं।

Also Read