Overdraft Facility: बैंक खाते में जीरो बैलेंस है? फिर भी निकाल सकते हैं पैसे, जानिए कैसे

20
Overdraft Facility, Bank Counter Receive Cash

Overdraft Facility: कई बार ऐसी स्थिति आ जाती है कि हमारे पास पैसे नहीं होते हैं। कई बार जरूरत के समय बैंक खाता खाली हो जाता है।

ऐसी स्थिति से निपटने के लिए क्या करना चाहिए? यहां हम आपको एक ऐसी सुविधा के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी मदद से आप इस संकट से निपट सकते हैं।

इस सुविधा की मदद से आप बैंक खाते में फंड न होने पर भी पैसे निकाल सकेंगे। जी हां, हम बात कर रहे हैं ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी (OD) की, आज Overdraft Facility कि जानकारी दे रहे है।

OD की सुविधा बैंकों द्वारा प्रदान की जाती है। यह सुविधा खाताधारकों को पहले से उपलब्ध धनराशि के अतिरिक्त अपने खाते से धन निकालने की अनुमति देती है।

Overdraft Facility किस प्रकार की होती हैं?

Overdraft Facility सुविधा सुरक्षित या असुरक्षित ऋण (Secured or Unsecured loan) के रूप में धन की व्यवस्था करने में मदद करती है। गारंटी के साथ सुरक्षित लोन दिया जाता है।

वित्तीय संस्थान ओवरड्राफ्ट के रूप में असुरक्षित व्यक्तिगत ऋण (Unsecured Personal Loans) भी दे सकते हैं। OD सुविधा निकासी की सीमा (Withdrawal Limit) के अधीन है, यानी आपको इसमें एक निश्चित राशि निकालने की अनुमति है।

यह सीमा आपकी आय और क्रेडिट क्रेडेंशियल (Income and Credit Credentials) के साथ-साथ बैंक या वित्तीय संस्थान के साथ आपके संबंधों के आधार पर तय की जाती है। यह सीमा अलग-अलग कर्जदारों के लिए अलग-अलग है।

असुरक्षित OD सुविधा एक निर्दिष्ट पुनर्भुगतान अवधि के साथ आती है, जिसमें उधारकर्ताओं के पास स्वीकृत OD को कितनी भी बार वापस लेने और पूर्व-भुगतान करने की सुविधा होती है।

असुरक्षित Overdraft Facility पर ब्याज उधारकर्ता के क्रेडिट स्कोर, स्वीकृत क्रेडिट सीमा, पुनर्भुगतान अवधि जैसे कारकों पर निर्भर करता है।

OD सुविधा पर ब्याज और शुल्क की गणना

ओवरड्राफ्ट राशि पर पूर्व निर्धारित दर पर ब्याज लिया जाता है। इसकी गणना दैनिक और मासिक डेबिट की जाती है। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास 10% प्रति वर्ष की दर से 1 लाख रुपये की ओडी सुविधा है।

यदि आप 10,000 रुपये निकालते हैं और 20 दिनों के बाद खाते में पैसा वापस जमा करते हैं, तो बैंक आपसे 54.8 रुपये का शुल्क लेगा (10000%=10% of) x 20/365) यानी केवल 20 दिनों के लिए।

यदि आप बकाया राशि पर चूक करते हैं, तो ब्याज चक्रवृद्धि हो जाता है। बैंक आमतौर पर सुरक्षित ओडी सुविधा पर पूर्व भुगतान शुल्क नहीं लगाते हैं, भले ही आप खाते में पूरी राशि वापस कर दें। OD खाते में कोई निश्चित ईएमआई या न्यूनतम पुनर्भुगतान की आवश्यकता नहीं है।

OD खाता कैसे काम करता है?

OD सुविधाएं आमतौर पर आपके बचत/चालू खातों (Savings/Current Accounts) से जुड़ी होती हैं। जब भी आप अपने बैंक खाते से अतिरिक्त राशि निकालने का प्रयास करते हैं, तो स्वीकृत OD खाते से अतिरिक्त राशि स्वतः ही निकाल ली जाती है।

बाद में, जब आप अपने बैंक खाते में धनराशि जमा करते हैं, तो इसे पहले ओडी खाते में घाटे के विरुद्ध समायोजित किया जाता है और अतिरिक्त धनराशि आपके बचत/चालू खाते में जमा की जाती है।

आपको OD सुविधा का विकल्प कब चुनना चाहिए?

फायनेसिअल एक्स्पर्ट बताते हैं, अल्पकालिक ओवरड्राफ्ट सुविधा ऋण फायदेमंद हो सकते हैं। यदि आप ऐसे पेशे में हैं जहां अनियमित आय के कारण आपको अक्सर लिक्विडिटी की कमी का सामना करना पड़ता है, तो ओडी सुविधा लिक्विडिटी के लिए उपयोगी साबित हो सकती है।

OD सुविधा की मदद से आप आर्थिक आपात (Financial Emergency) स्थिति से निपट सकते हैं। एक ओडी खाता आपके निवेश को नुकसान पहुंचाए बिना वित्तीय आपात स्थिति से उभरने में आपकी मदद कर सकता है। सबसे अहम बात याद रखे आपको गैर-जरूरी खर्चों के लिए OD खाते का उपयोग नहीं करना चाहिए।