Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana : महिलाओं की मदद कर रही है मोदी सरकार, मिल रहे 6000 रुपये

262
PMMVY: Modi government is helping women, getting 6000 rupees

Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana : महिलाओं को आर्थिक मदद पहुचाने के लिए केन्द्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना (Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana) शुरू की थी। जिसके माध्यम से महिलाओं को 6000 रूपये की मदद दी जा रही है।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना (Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana) से मिलने वाला पैसा उनके खाते में ट्रांसफर किया जाता है। इसका फायदा केवल महिलाएं ही ले सकती हैं।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना गर्भवती महिलाओं (pregnant women) के लिए है। इस योजना का मकसद गर्भवति और स्तनपान कराने वाली महिलाओं की आर्थिक सहायता मदद करना है।

Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana: 5 वर्ष पूर्व शुरू हुई थी योजना

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना (Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana) 5 वर्ष पुरानी है। प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना की शुरुआत 1 जनवरी 2017 को की गयी थी।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना को प्रधानमंत्री गर्भावस्था सहायता योजना के नाम से भी जाना जाता है। इस योजना के लिए केवल गर्भवती महिलाएं ही आवेदन कर सकती हैं।

Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana

ये है जरूरी दस्तावेज Important Documents

इस योजना का लाभ लेने के लिए माता-पिता का आधार कार्ड, माता-पिता का पहचान पत्र और बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र के अलावा बैंक खाता पासबुक की आवश्यकता होगी। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत 6000 रुपये किश्तों में मिलते हैं।

इस योजना के पीछे सरकार का मकसद मां और बच्चे दोनों की देखभाल के लिए आर्थिक मदद देना है. इस योजना के लिए पैसा 3 चरणों या किश्तों में उपलब्ध है।

पहली बार में 1000 रुपये, दूसरी बार में 2000 रुपये और तीसरी बार में 2000 रुपये दिए जाते हैं। अंतिम बार 1000 रुपये की राशि बच्चे के जन्म के समय प्राप्त होती है।

Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana : घर बैठे करें आवेदन (Application)

इस योजना के बारे में यदि आप अधिक जानकारी लेना चाहते हैं तो इस ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं। आप इसके लिए आवेदन भी घर बैठे कर सकते हैं।

इस योजना के जरिए प्रति वर्ष 51.70 लाख महिलाओं को लाभ पहुंचने का लक्ष्य रखा गया था।आर्थिक तौर पर कमजोर महिलाएं इस योजना से फायदा उठा सकती हैं।