PUBG Murder : बच्चा मां को नहीं मार सकता, टीम ने पूछताछ के बाद कहा; इन सवाल जवाबों से संदेह बढा

19
PUBG Murder: child cannot kill mother, team said after questioning; Doubt raised by these questions and answers

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 16 साल के बेटे द्वारा मां की हत्या की गुत्थी उलझती जा रही है। हत्या का दावा पबजी के कारण किया गया था।

लेकिन जैसे-जैसे लड़के से पूछताछ की जा रही है, संदेह की सुई अन्य लोगों की ओर बढ़ रही है। उत्तर प्रदेश बाल संरक्षण आयोग की टीम इन दिनों लड़के से पूछताछ कर रही है।

उत्तर प्रदेश बाल संरक्षण आयोग की टीम के मुताबिक, लड़के द्वारा पूछे गए सवालों के जवाबों से यह संदेह पैदा हुआ कि बच्चा मां की हत्या कर सकता है।

इसलिए अब बाल संरक्षण आयोग की रिसर्च विंग इस मामले की जांच करेगी और मुख्य आरोपी का पता लगाएगी। अब तक आयोग की टीम ने पूछताछ के दौरान बच्चे की हत्या पर संदेह जताया है।

बाल संरक्षण आयोग ने आरोपी नाबालिग लड़के से पूछा सवाल और लड़के से मिले संदेह बढानेवाले जवाब

प्रश्न- बेटा, क्या तुमने अपनी मां को मार डाला?

उत्तर- हाँ

प्रश्न- बेटा, तुम्हारे दोस्त कौन हैं?

उत्तर- बहुत हैं, सभी अच्छे हैं।

प्रश्न- आपकी कितनी गर्लफ्रेंड हैं?

उत्तर- कोई नहीं।

प्रश्न- क्या कभी स्कूल में झगड़ा हुआ है?

उत्तर- मुझे बुरा लगता था तो मैं सबको मारता था।

प्रश्न- मम्मा ने कभी मारा?

उत्तर- हां, कई बार मारा, गलती न होने पर भी मारती थी।

प्रश्न- मारने पर आपको गुस्सा आता था?

उत्तर- हां आता था।

प्रश्न- पापा अच्छे हैं?

उत्तर- हां, मैं अपने पिता की बात से सहमत हूं।

प्रश्न- जब मां मारती थी तो पिता क्या कहते थे?

उत्तर- बोलते थे जो मन में आये करो.

प्रश्न- बेटा बताओ मां अच्छी है या पापा?

उत्तर- पापा।

प्रश्न- आपको नानी का घर पसंद है या दादी का घर?

उत्तर- नानी का घर।

प्रश्न- आपको मामा ज्यादा प्यार करते हैं या चाचा?

उत्तर- मामा  प्यार करते है।

प्रश्न- तुमने अपनी माँ को क्यों मारा?

उत्तर- मुझे रोकती था।

सवाल- आपको गुस्सा आता है? देखने में तो नहीं लगता आपको गुस्सा आता होगा?

उत्तर- नहीं आता है, कभी-कभी आता है।

प्रश्न- आपको कौन सा खेल पसंद है?

उत्तर: क्रिकेट।

प्रश्न- क्या आप अभी छुट्टी पर हैं?

उत्तर- हाँ

प्रश्न- आप कब तक खेलते हैं?

उत्तर- जब दोस्त सुबह-शाम आते हैं।

प्रश्न- क्या आप खेलने के लिए बाहर जाते हैं?

उत्तर- मम्मी मुझे बाहर नहीं जाने देती।

प्रश्न: आप किसके साथ खेलते हैं?

उत्तर- मेरे दोस्तो के साथ।

प्रश्न- क्या आप अपनी बहन को भी खेलने ले जाते हैं?

उत्तर- नहीं, वह नहीं जाती।

प्रश्न- दीदी को क्या पसंद है? रक्षाबंधन पर आप उसे क्या देते हैं?

उत्तर-चॉकलेट

प्रश्न- पापा के पास कितनी बार गए?

उत्तर- एक बार भी नहीं।

सवाल- दादा-दादी, नाना-नानी के यह जाना होता है या वो लोग आते हैं?

उत्तर- हाँ, आते है।

प्रश्न- कौन ज्यादा आता है?

उत्तर – नाना नानी

प्रश्न- आपको अपने सगे-संबंधियों में सबसे अच्छा कौन लगता है?

जवाब- नाना-नानी

एक बच्चा अपनी मां को नहीं मार सकता

इन सवालों के जवाब पर बाल संरक्षण आयोग की सदस्य सुचिता के मुताबिक, ‘बच्चे का बार-बार अपनी मां की तरफ झुकाव था और वह कभी मां को नहीं मार सकता, बच्चा लड़ सकता है, बच्चा गुस्से में घर से निकल सकता है।

लेकिन विदेशी पिस्टल से फायर किया गया है, इसके पीछे का कारण स्पष्ट नहीं है, इसमें किसी तीसरे व्यक्ति के होने की आशंका जताई जा रही है।

मामले को संभालेगी रिसर्च विंग

सुचिता ने कहा कि हमारी रिसर्च विंग इस बच्चे के मामले को संभालेगी, जिसमें 2 मनोवैज्ञानिक, 2 अधिवक्ता, 2 डॉक्टर और 2 बाल संरक्षण आयोग के लोग आमने-सामने बैठकर विश्लेषण करेंगे।

हमने पहली बार एक रिसर्च विंग की स्थापना की है। क्योंकि यह मामला बेहद पेचीदा है और सभी पहलुओं की जांच की जा रही है।

क्या है पूरा मामला

लखनऊ के पीजीआई इलाके में 16 साल के बेटे पर मां की हत्या का आरोप है। पुलिस का दावा है कि मां बच्चे को पबजी खेलने से रोकती थी, जिसके चलते उसकी हत्या कर दी।

हत्या के बाद तीन दिन तक शव को घर में ही रखा और इस दौरान क्रिकेट खेलने से लेकर पार्टी करने तक सब करता रहा, जब शव सड़ने लगा तो उसने अपने पिता को फोन किया।

पुलिस के मुताबिक, ‘पिता को फोन करने के बाद नाबालिग बेटे ने कहा कि एक इलेक्ट्रिक मैकेनिक ने मां को मार डाला, लेकिन जांच में दावा झूठा निकला।

उसने पिता की लाइसेंसी पिस्टल से अपनी मां की हत्या कर दी और रूम फ्रेशनर छिड़क दिया। कार लाश की गंध को छिपाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन अंत में राज खुल गया।

इस मामले में पुलिस का दावा है कि बच्चे ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है और उसे बाल संरक्षण गृह भेज दिया गया है। अब बाल संरक्षण आयोग की टीम बच्चे से पूछताछ कर रही है।

इस पूछताछ के दौरान बाल संरक्षण आयोग की टीम को शक है कि बच्चा अपनी मां को नहीं मार सकता, इसके पीछे किसी तीसरे शख्स का हाथ है। फिलहाल रिसर्च विंग इसकी जांच करेगी।