Sahjan ki Kheti | किसानों के पास सहजन की खेती से लाखों कमाने का मौका, पूरी जानकारी

44
Sahjan ki Kheti

New Business Idea: बहुत से लोग अपने शहर और गांव से दूर सालों तक काम करते हैं और बाद में अपनी नौकरी छोड़कर अपने शहर और गांव लौट जाते हैं।

इसके बाद लोग हमेशा अपना खुद का व्यवसाय करने के बारे में सोचते हैं, जैसे दुकान खोलना या खेती करने की सोच। अब अगर आप खेती करने की सोच रहे हैं तो हम आपको एक बेहतरीन आइडिया बताएंगे। इसमें आप कम कीमत में भारी मुनाफा कमा सकते हैं।

आप सहजन खेती (Drumstick Farming) कर सकते हैं। इसमें आपको काफी फायदा मिलता है। इसकी खेती में ज्यादा मेहनत नहीं लगती है। शुरुआत में सहजन की खेती करके आप आसानी से सालाना 6 लाख यानी 50,000 रुपये मासिक कमा सकते हैं।

अब बात करें सहजन की तो यह सेहत के लिए काफी फायदेमंद होती है। इसमें कई लाभकारी गुण होते हैं। सहजन की खेती (Sahjan ki Kheti) के लिए आपको किसी विशेष भूमि की आवश्यकता नहीं होगी।

आप इसकी खेती बंजर जमीन पर भी कर सकते हैं। आपको बता दें कि सहजन खेती सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में की जाती है।

इस तरह शुरू करें

सहजन (Drumstick Farming) को केवल एक बार लगाना है उसके बाद 4 वर्ष तक कोई बुवाई नहीं होती है। इसमें साल में दो बार फलियों को तोड़ा जाता है। एक पौधे से लगभग 200-400 (40-50 किग्रा) सहजन का उत्पादन होता है।

इसके अलावा इसकी खेती में कम या ज्यादा बारिश का कोई असर नहीं होता है, यानी कम या ज्यादा बारिश से कोई नुकसान नहीं होता है.

बारिश और बाढ़ से भी कोई नुकसान नहीं हुआ है

अधिक या कम वर्षा से पौधे को कोई नुकसान नहीं होता है, यह विभिन्न पारिस्थितिक परिस्थितियों में उगने वाला पौधा है। सहजन की खेती सभी प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है। इसकी खेती बंजर, बंजर और कम उपजाऊ भूमि में भी की जा सकती है।

व्यावसायिक खेती के लिए, साल में दो बार सहजन की प्रजातियों के लिए 6-7.5 पीएच. मान दोमट दोमट मिट्टी बेहतर पाई गई है।

जानिए सहजन की अच्छी किस्मों के बारे में

Sahjan ki Kheti : PKM1, PKM2, कोयंबटूर 2 सहजन फलने की मुख्य उपभेद वर्ष में दो बार हैं। इसका पौधा 4-6 मीटर ऊँचा होता है और यह 90-100 दिनों में फूलता है।

आवश्यकता के अनुसार विभिन्न अवस्थाओं में फलों की कटाई की जाती है। रोपण के बाद लगभग 160-170 दिनों में फल तैयार हो जाता है।

वर्ष में एक पौधे से 65-70 सेमी. लंबा और औसत 6.3 सेमी। मोटे, 200-400 फल (40-50 किग्रा) उपलब्ध हैं। यह बहुत गूदेदार होता है और पकाने के बाद इसका 70 प्रतिशत हिस्सा खाने योग्य होता है।

एक बार लगाने के बाद यह 4-5 साल तक फल दे सकता है। हर साल कटाई के बाद पौधे को जमीन से एक मीटर दूर छोड़कर काटना जरूरी है।

रोपण की विधि

सहजन (Drumstick Farming) के पौधे की रोपाई गड्ढा बनाकर की जाती है। खेत की अच्छी तरह से निराई-गुड़ाई करने के बाद 2.5 x 2.5 मीटर की दूरी 45 x 45 x 45 सेमी. आकार का गड्ढा।

गड्ढे की ऊपरी मिट्टी में 10 किलो सड़ी हुई गोबर की खाद मिलाकर गड्ढे को भर दें। इससे खेत रोपाई के लिए तैयार हो जाता है।

सहजन में बीज और शाखा के टुकड़े दोनों प्रवर्धित होते हैं। अच्छे फलने के लिए और वर्ष में दो बार बीज से प्रचार करना आवश्यक है।

जून से सितंबर तक रोपाई

एक हेक्टेयर की खेती के लिए 500 से 700 ग्राम बीज पर्याप्त होता है। बीजों को सीधे तैयार गड्ढों में लगाया जा सकता है या पॉलिथीन की थैलियों में तैयार करके गड्ढों में लगाया जा सकता है।

यह पौधा एक महीने में पॉलीथिन बैग में लगाने के लिए तैयार हो जाता है। जून से सितंबर तक पहले से तैयार गड्ढों में एक महीने पुराने पौधे रोपे जा सकते हैं।

जब पौधा लगभग 75 सेमी का हो जाए, तो पौधे के ऊपरी हिस्से को तोड़ देना चाहिए, इससे शाखाओं को किनारे से निकलने में आसानी होगी।

यहां इनकी फसल अच्छी होती है, शोध के अनुसार प्रति गड्ढे में केवल 15 किलो गोबर की खाद और एजोस्पिरिलम व पीएसबी। (5 किग्रा/हेक्टेयर) के प्रयोग से सहजन की जैविक खेती उपज में बिना किसी नुकसान के की जा सकती है।

खाद और खाद

सहजन की रोपाई के एक महीने बाद 100 ग्राम यूरिया + 100 ग्राम सुपर फास्फेट + 50 ग्राम पोटाश प्रति गड्ढे में डालें। और तीन माह बाद प्रति गड्ढे में 100 ग्राम यूरिया की खाद दें।

ड्रमस्टिक पर वैज्ञानिकों द्वारा किए गए शोध से पता चला कि प्रति गड्ढे और एज़ोस्पिरिलम और पीएसबी में केवल 15 किलो गोबर की खाद है। (5 किग्रा/हेक्टेयर) जैविक सहजन की खेती से अच्छी उपज प्राप्त की जा सकती है।

सिंचाई और खरपतवार की रोकथाम

सहजन की खेती से अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए सिंचाई बहुत जरूरी है। सहजन के पौधों में पानी की सामान्य मांग होती है। बीजों के अंकुरण के समय नमी का बहुत महत्व होता है।

इसके अलावा पौधों में फूल आने के समय मिट्टी न तो ज्यादा सूखी होनी चाहिए और न ही ज्यादा नमी। अत्यधिक नमी या सूखे के कारण फूल गिर जाते हैं।

हालांकि, चिकन में खरपतवार की देखभाल करने की जरूरत नहीं है। फिर भी मूंग के पेड़ के आसपास उगने वाले खरपतवारों को निराई-गुड़ाई करके हटा देना चाहिए। मिट्टी को पौधे की जड़ों में भी लगाना चाहिए।

कितना लाभ होगा?

आपको बता दें कि एक एकड़ में करीब 1,200 पौधे लगाए जाते हैं, जिन पर करीब 50,000-60,000 रुपये खर्च होते हैं। इसके बाद आप आसानी से लगभग एक लाख कमा सकते हैं।

Also Read