अग्निपथ योजना पर चौंकाने वाला खुलासा; सामने आई विरोध के बहाने माहौल बिगाड़ने की साजिश !

47
Shocking revelations on Agneepath scheme; Conspiracy to spoil the atmosphere on the pretext of protest surfaced!

Shocking disclosure on Agneepath scheme | केंद्र सरकार की सेना भर्ती पर लाई गई नई योजना अग्निपथ को लेकर देश में जबरदस्त हंगामा हो रहा है। इसके चलते कई राज्यों में हिंसा का दौर भी शुरू हो गया है।

इससे सबसे ज्यादा प्रभावित बिहार हो रहा है, जहां ट्रेनों में आग भी लगा दी गई है। अब इसी बीच केंद्रीय जांच एजेंसियों ने सभी राज्यों को अलर्ट जारी कर दिया है।

अलर्ट में कहा गया है कि सोशल मीडिया के जरिए अफवाह फैलाकर माहौल खराब करने की साजिश है। जांच एजेंसियों की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि, असामाजिक तत्व कानून-व्यवस्था को बिगाड़ने और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का हर संभव प्रयास करेंगे।

अग्निपथ योजना

इसलिए सभी राज्यों को अतिरिक्त बलों को तैयार रखने के लिए अलर्ट किया गया है ताकि किसी भी तरह की स्थिति से निपटा जा सके।

यह चेतावनी ऐसे समय में जारी की गई है जब इस योजना के खिलाफ देश के कई राज्यों में हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं।बिहार में बड़े पैमाने पर सरकारी संपत्ति को नुकसान हो रहा है, कई ट्रेनों में आग लगा दी गई है।

तेलंगाना, कोलकाता और झारखंड में भी हालात विस्फोटक होते जा रहे हैं; यूपी के कुछ इलाकों में भी प्रदर्शन हुए हैं। राजधानी दिल्ली में भी प्रदर्शनकारियों ने कानून अपने हाथ में लेने की कोशिश की है।

इन तमाम विरोधों को देखते हुए जांच एजेंसियां ​​यह मान रही हैं कि प्रदर्शनकारी आने वाले दिनों में माहौल खराब करने के लिए और हिंसक हो सकते हैं।

ऐसे में पहले ही अतिरिक्त बल तैनात करने की बात हो चुकी है, सोशल मीडिया पर कड़ी नजर रखने की सलाह भी दी गई है। अग्निपथ योजना की बात करें तो भारतीय सेना में पहली बार ऐसी योजना शुरू की गई है।

अग्निपथ' योजना

जिसमें अल्पावधि के लिए सैनिकों की भर्ती की जाएगी। इस योजना के तहत हर साल करीब 40-45 हजार युवाओं को सेना में शामिल किया जाएगा।

इन युवाओं की उम्र साढ़े 17 साल से 21 साल के बीच होगी। इन चार सालों में जवानों को 6 महीने की बेसिक मिलिट्री ट्रेनिंग दी जाएगी।

उन्हें पहले साल 30 हजार, दूसरे साल 33 हजार, तीसरे साल 36500 और चौथे साल 40 हजार मासिक वेतन दिया जाएगा।

इस योजना के तहत सेवा समाप्त कर चुके 25 प्रतिशत अग्निशामकों को स्थायी संवर्ग में भर्ती किया जाएगा। लेकिन इसको लेकर युवा सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं।

अग्निपथ

सवाल उठाया जा रहा है कि अनुबंध समाप्त होने के बाद 25% अग्निशामकों को स्थायी संवर्ग में शामिल किया जाएगा, लेकिन शेष 75% अग्निशामकों का चार साल बाद क्या होगा।

युवा इस बात का भी विरोध कर रहे हैं कि चार साल बाद भी अग्निवरों को ग्रेच्युटी या पेंशन जैसा कोई लाभ नहीं मिलने वाला है, इसलिए उनका भविष्य अधर में लटक जाएगा।

हालांकि केंद्र सरकार इन तर्कों को सही नहीं मान रही है. उनकी राय में इन अग्निशामकों को ऐसा प्रशिक्षण दिया जाएगा कि चार साल बाद जब वे कहीं और नौकरी पर जाएंगे तो उन्हें काम मिलेगा और बेहतर वेतन भी।

हालांकि, विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए, सरकार द्वारा अग्निपथ भर्ती योजना के पहले बैच के लिए ऊपरी आयु सीमा 21 वर्ष से बढ़ाकर 23 वर्ष कर दी गई है।

Also Read