Strawberry Cultivation | स्ट्रॉबेरी की खेती कैसे और किस महीने में की जाती है, लागत, मुनाफा और रिस्क के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में

12
स्ट्रॉबेरी की खेती कैसे और किस महीने में की जाती है, जानिए पूरी जानकारी

Strawberry Cultivation Business Idea : कोरोना के बाद दुनिया कि बदलती तस्वीर और बढती महंगाई में इंकम और खर्च का तालमेल बिठाना काफी मुश्कील हो रहा है, ऐसे में हर आदमी एक्स्ट्रा इंकम की तलाश में है।

ऐसे मे अपने चालू कारोबार या नोकरी के साथ कोई ढंग का इंकम सोर्स मिल जाये, तो जिंदगी मे मजा आ जाये, यही सोचकर हम आप के लिये हमेशा नये नये बिजनेस आयडियाज लेकर आते हैं।

भारत की जनसंख्या को ध्यान में रखते हुए कोई भी अच्छा उत्पाद आपको पैसा कमा सकता है, लेकिन आजकल ज्यादातर लोग खेती को एक व्यवसाय के रूप में देख रहे हैं।

व्यापार के उद्देश्य से ये लोग नकदी फसलों में निवेश कर रहे हैं। नकदी फसलें वे हैं जिन्हें बेचा जा सकता है और अच्छा लाभ कमाया जा सकता है।

स्ट्रॉबेरी (Strawberry) एक ऐसी फसल है। आज हम आपको स्ट्रॉबेरी की खेती (Strawberry Cultivation) से जुड़ी सारी जानकारी उपलब्ध कराएंगे। यह भी देखें कि आप इससे कितना कमा सकते हैं।

स्ट्रॉबेरी की खेती महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड, राजस्थान, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और पश्चिम बंगाल में बड़े पैमाने पर की जाती है।

इसकी कई किस्में हैं जैसे

ओलंपस, हुड, शुक्सान आदि का उपयोग आइसक्रीम बनाने के लिए किया जाता है। इसके अलावा कैमरोसा, चांडलर, ओफ्रा, ब्लैक पीकॉक, स्वीड चार्ली भी इसकी किस्में हैं।

एक एकड़ में 22 हजार स्ट्रॉबेरी के पौधे लगाए जा सकते हैं। प्रत्येक पौधे की दूरी कम से कम 30 सेमी होनी चाहिए। इसकी फसल सितंबर-अक्टूबर में बोई जाती है और फल मार्च-अप्रैल तक मिलते हैं। इसके लिए बलुई दोमट मिट्टी अच्छी मानी जाती है।

1 एकड़ में 22 हजार स्ट्रॉबेरी के पौधे लगाए जा सकते हैं। प्रत्येक पौधे की दूरी कम से कम 30 सेमी होनी चाहिए। इसकी फसल सितंबर-अक्टूबर में बोई जाती है और फल मार्च-अप्रैल तक मिलते हैं। इसके लिए बलुई दोमट मिट्टी अच्छी मानी जाती है।

स्ट्रॉबेरी को कोल्ड स्टोरेज में 10 दिनों तक स्टोर किया जा सकता है। अगर आप स्ट्रॉबेरी को कहीं दूर ले जाना चाहते हैं, तो उन्हें 40 डिग्री सेल्सियस पर 2 घंटे के लिए प्री-कूल कर लें।

स्ट्रॉबेरी को कोल्ड स्टोरेज में 10 दिनों तक स्टोर किया जा सकता है। अगर आप स्ट्रॉबेरी को कहीं दूर ले जाना चाहते हैं, तो उन्हें 40 डिग्री सेल्सियस पर 2 घंटे के लिए प्री-कूल कर लें।

1 एकड़ स्ट्रॉबेरी की खेती में करीब 6 लाख रुपए खर्च होते हैं। दरअसल, स्ट्रॉबेरी के पौधे महंगे होते हैं इसलिए इसकी कीमत इतनी ज्यादा होती है। इसके अलावा शहतूत की चादरें, स्ट्रॉबेरी की पैकिंग के लिए कार्टन आदि की कीमत भी काफी होती है।

1 एकड़ स्ट्रॉबेरी की खेती में करीब 6 लाख रुपए खर्च होते हैं। दरअसल, स्ट्रॉबेरी के पौधे महंगे होते हैं इसलिए इसकी कीमत इतनी ज्यादा होती है। इसके अलावा शहतूत की चादरें, स्ट्रॉबेरी की पैकिंग के लिए कार्टन आदि की कीमत भी काफी होती है।

हालांकि, आपको खर्च के दोगुने से भी ज्यादा आमदनी होती है। आप 7 लाख रुपये की फसल से 15 लाख रुपये कमा सकते हैं।

यानी अगर आप प्लांट की कीमत हटा देते हैं तो आपको 9 लाख रुपये का मुनाफा होता है। यह कमाई 6 महीने में 1 एकड़ में उगाई गई फसल से होती है।

हालांकि, आपको खर्च के दोगुने से भी ज्यादा आमदनी होती है। आप 7 लाख रुपये की फसल से 15 लाख रुपये कमा सकते हैं।

यानी अगर आप प्लांट की कीमत हटा देते हैं तो आपको 9 लाख रुपये का मुनाफा होता है। यह कमाई 6 महीने में 1 एकड़ में उगाई गई फसल से होती है।

भारत में स्ट्राबेरी की खेती : मार्गदर्शिका और विस्तार में जानकारी हिंदी में
Strawberry Cultivation in India: Guide and Detail Information in Hindi

स्ट्रॉबेरी का फल मुलायम होता है और इसका आकार दिल जैसा होता है। इसके फल पकने के बाद लाल हो जाते हैं। स्ट्रॉबेरी एकमात्र ऐसा फल है जिसके बीज बाहर की तरफ होते हैं।

स्ट्रॉबेरी एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन सी और विटामिन ए और के, प्रोटीन और खनिजों का एक अच्छा प्राकृतिक स्रोत है।

जो चेहरे पर कील मुंहासे, आंखों की चमक के साथ-साथ दिखने में और दांतों की चमक बढ़ाने के लिए उपयोग किए जाते हैं। इनके अलावा इसमें कैल्शियम मैग्नीशियम फोलिक एसिड फास्फोरस पोटेशियम पाया जाता है।

स्ट्रॉबेरी का खेत कैसे तैयार करें

  1. स्ट्रॉबेरी की खेती और तैयारी का सही समय सितंबर से नवंबर के बीच किया जाता है।
  2. सितम्बर के प्रथम सप्ताह में खेत की तीन बार जुताई करें।
  3. गाय के गोबर को अच्छी तरह बिखेर कर मिट्टी में मिला दें।
  4. मिट्टी परीक्षण के आधार पर खेत तैयार करते समय पोटाश और फास्फोरस भी मिलाना चाहिए।

बेड बनाना

  1. बेड की चौड़ाई 2 फीट रखें और बेड से बेड की दूरी डेढ़ फीट रखें।
  2. ड्रेप सिंचाई पाइप लाइन बिछाएं।
  3. पौधे लगाने के लिए प्लास्टिक मल्चिंग में 20 से 30 सेंटीमीटर की दूरी पर छेद कर लें।
  4. स्ट्रॉबेरी के पौधे लगाने का सही समय 10 सितंबर से 15 अक्टूबर के बीच लगाना चाहिए।
  5. यदि तापमान अधिक है तो पौधे को सितंबर के अंत तक लगाएं।

स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए आवश्यक जलवायु

स्ट्रॉबेरी ठंडी जलवायु वाली फसल है। इसकी खेती मैदानी क्षेत्र में भी सफलतापूर्वक की जा सकती है। इसके लिए 20 से 30 डिग्री का तापमान उपयुक्त होता है। तापमान बढ़ने पर स्ट्रॉबेरी के पौधे क्षतिग्रस्त हो जाते हैं और उपज प्रभावित होती है।

स्ट्रॉबेरी की सिंचाई

  • रोपण के तुरंत बाद ड्रिप या स्प्रिंकलर सिंचाई करें
  • समय-समय पर नमी को ध्यान में रखते हुए सिंचाई करनी चाहिए।
  • स्ट्रॉबेरी में फल लगने से पहले माइक्रो स्प्रिंकलर से सिंचाई की जा सकती है।
  • फल आने के बाद ही ड्रिप विधि से सिंचाई करें ताकि फल खराब न हो।

स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए उर्वरक

स्ट्रॉबेरी का पौधा बहुत नाजुक होता है इसलिए इसे समय-समय पर खाद और खाद देना जरूरी होता है। लेकिन खाद व खाद का प्रयोग मिट्टी की जांच के अनुसार ही करना चाहिए।

सामान्य मिट्टी के लिए प्रति एकड़ 10 से 15 टन गाय का गला हुआ गोबर बिखेर कर भूमि तैयार करते समय मिट्टी में मिला देना चाहिए।

खेत तैयार करते समय 100 किग्रा. फास्फोरस (P2O5) और 60 कि.ग्रा. पोटाश (K2O) प्रति एकड़ में देना चाहिए। रोपाई के बाद निम्नलिखित घुलनशील उर्वरकों को ड्रिप सिंचाई पद्धति द्वारा दिया जाना चाहिए।

समय घुलनशील उर्वरकों की मात्रा ग्राम/एकड़/दिन
नाइट्रोजन फास्फोरस (पी2ओ5) पोटाश (के2ओ)
10 अक्तूबर से 20 नवम्बर 250 200 400
21 नवम्बर से 20 दिसम्बर 600 200 600
21 दिसम्बर से 20 जनवरी 250 160 600
21 जनवरी से 28 फरवरी 700 200 900
1 मार्च से 31 मार्च 600 200 900

स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए आवश्यक मिट्टी

स्ट्राबेरी को लगभग सभी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है। लेकिन, दोमट दोमट मिट्टी में स्ट्रॉबेरी का उत्पादन अधिक होता है।

इसकी खेती के लिए मिट्टी का पीएच मान 5.5 से 6.5 होना चाहिए। आपको अपने नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र या कृषि विभाग से मिट्टी की जांच करवानी चाहिए।

स्ट्राबेरी कीट और रोग

पतंगे, मक्खियाँ, चेफर, स्ट्रॉबेरी रूट वीविल्स, स्ट्रॉबेरी थ्रिप्स, जूस बीटल, स्ट्रॉबेरी क्राउन माइट्स जैसे कीट इसे नुकसान पहुंचा सकते हैं।

बचाव- इसके लिए नीम के छिलके को पौधों की जड़ों में लगाएं। 

इसके अलावा पत्तों पर धब्बे, ख़स्ता फफूंदी, पत्ती झुलसा का प्रकोप भी हो सकता है। इसके लिए समय-समय पर पौधों के रोगों की पहचान करें और वैज्ञानिकों की सलाह पर कीटनाशकों का छिड़काव करें।

स्ट्रॉबेरी तोड़ना

  1. जब स्ट्रॉबेरी का रंग सात प्रतिशत असली हो जाए तब इसे तोड़ लेना चाहिए।
  2. फलों की तुड़ाई बाजार की दूरी के अनुसार करनी चाहिए।
  3. स्ट्रॉबेरी की तुड़ाई अलग-अलग दिनों में करनी चाहिए।
  4. स्ट्रॉबेरी फल को नहीं पकड़ना चाहिए।
  5. स्ट्रॉबेरी के फल को महीन पीसकर तोड़ लेना चाहिए।

स्ट्रॉबेरी की फसल की उपज

स्ट्रॉबेरी की फसल से अच्छी उपज कई कारकों पर निर्भर करती है। जैसे उगाई जाने वाली किस्म, जलवायु, मिट्टी का स्तर, पौधों की संख्या, फसल प्रबंधन आदि।

यदि फसल का सही प्रबंधन और देखभाल की जाए तो एक एकड़ क्षेत्र में 80 से 100 क्विंटल फलों का उत्पादन किया जा सकता है। एक स्ट्रॉबेरी के पौधे से आप 800-900 ग्राम फल प्राप्त कर सकते हैं।

स्ट्रॉबेरी हार्वेस्ट में लागत और कमाई

आमतौर पर एक एकड़ स्ट्रॉबेरी की फसल की कीमत लगभग 2-3 लाख रुपये होती है। उपज के बाद खर्च निकालने पर 5-6 लाख का मुनाफा होता है।

स्ट्रॉबेरी के पौधों को सर्दी से बचाये

स्ट्रॉबेरी की खेती पॉली हाउस और बिना पॉली हाउस दोनों में की जा सकती है। यदि पॉली हाउस पहले से बना हुआ है तो स्ट्रॉबेरी के पौधों के ठंडे होने की संभावना बहुत कम होती है।

अगर आपके पास पॉली हाउस नहीं है तो चिंता की कोई बात नहीं है। स्ट्रॉबेरी की फसल को पाले से बचाने के लिए प्लास्टिक लो टनल का इस्तेमाल करें। यह प्लास्टिक पारदर्शी होना चाहिए और 100 से 200 माइक्रोन का होना चाहिए।

स्ट्रॉबेरी की पैकिंग

  • स्ट्रॉबेरी को प्लास्टिक की प्लेट में पैक करना चाहिए।
  • हवादार जगह पर रखना चाहिए।
  • जहां तापमान पांच डिग्री है।
  • एक दिन बाद तापमान जीरो डिग्री होना चाहिए।

FAQ’s स्ट्राबेरी की खेती : अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. भारत में इसकी खेती कहाँ की जाती है?
A. भारत में इसकी खेती मुख्य रूप से – उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, कश्मीर घाटी, महाराष्ट्र, कलिम्पोंग, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, बिहार आदि राज्यों में की जाती है।

Q. स्ट्रॉबेरी के पौधे की कीमत कितनी होती है?
उ. 3 से 15 रुपये प्रति स्ट्रॉबेरी के पौधे दिए जाएंगे।

Q. एक एकड़ में खेती करके हम कितना कमा सकते हैं?
उ. इसकी खेती से लगभग 10 से 12 लाख रुपए आसानी से कमाए जा सकते हैं।

Q. स्ट्रॉबेरी की खेती कितने समय तक चलती है?
A. स्ट्राबेरी की खेती सितंबर से अप्रैल तक लगभग 7 महीने तक चलती है।

Q. स्ट्रॉबेरी की खेती कितने महीने चलती है?
A. स्ट्राबेरी की खेती लगभग 7 से 8 महीने तक चलती है।

Q. स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए कितनी जमीन होनी चाहिए?
उ. कितनी खेती की आवश्यकता है, इसका कोई नियम नहीं है। आप जितनी चाहें उतनी जमीन पर इसकी खेती कर सकते हैं, आप केवल 15 से 25 पौधों से खेती शुरू कर सकते हैं।

Q. स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए सरकार कोई स्कीम लाती है?
उ. सरकारी योजना है, पुरी जानकारी के लिये अपने कृषि कार्यालय या कृषि अधिकारी से संपर्क करे।