लातूर जिले में गन्ना उत्पादक दोहरी मुसीबत में हैं, फैक्ट्री की लापरवाही, मजदूरों की लूट जारी!

154
Sugarcane growers in double crisis in Latur district

लातूर : जिले में इस साल गन्ने की अधिकता की बड़ी समस्या है. भीषण सूखे की मार झेल रहे लातूर जिले के किसान दोहरे संकट का सामना कर रहे हैं।

गन्ना किसान को दोहरी दुविधा का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि यह फैक्ट्री गन्ना नहीं ले जा रही है और मजदूर लूट के बिना नहीं काम नहीं कर रहे है।

किसान सरप्लस गन्ने को कारखाने में जल्दी नहीं ले जाने और मजदूरों की लूट को रोकने के दोहरे चक्रव्यूह में फंस गया है। मजदूरों का गैंग तरह-तरह से बाधा डाल रहा है।

इस बीच फैक्ट्री ने गन्ना ले जाने का फतवा तभी जारी किया है जब वह कारखाने का सदस्य हो। इसके चलते किसान बेबस हो गए हैं।

लातूर जिला अपने लगातार सूखे के लिए जाना जाता है। एक तरफ जिले में गन्ने के रकबे में जबरदस्त इजाफा हुआ है। इस साल अतिरिक्त गन्ना एक बड़ी समस्या है।

कई का बेंत पिछले 16-18 महीनों से खेत में खड़ा है। गन्ने के डंठल निकल आये है। अब किसान फैक्ट्री की दहलीज पर माथापच्ची कर रहा है।

नेताओ की जुते पर नाक रगड रहा है, लेकिन दूसरी तरफ कोई मजदूर गन्ना तोडने के लिये आता है तो वह अपनी तरफ से किसान को लुटने कि पूरी कोशिश कर रहा है।

हालांकि चीनी मिलों ने गन्ना किसानों को गन्ना तोड़ पत्र दिए हैं, लेकिन मेहनतकश किसान के ओर से 9,000 से 10,000 रुपये वसूल रहे है, बकरी, शराब आदि की मांग कर रहे हैं। इसके अलावा एक ट्रैक्टर के एक ट्रिप के लिए 1000 रुपये उबाले जा रहे हैं।

किसान इस मामले को फैक्ट्री अधिकारियों के संज्ञान में लाएं तो समझौता कर लें, नहीं तो खेत में ही गन्ना रह जाएगा, ऐसा फैक्ट्री की ओर से किसानों को बताया जा रहा है. नतीजतन, किसान दोहरे संकट का सामना कर रहा है।