The Kashmir Files Review : विवेक ने कश्मीर के आँसुओं के पिछे दर्द दिखाया, आप इस फिल्म को देखकर रोयेंगे !

184
The Kashmir Files Review: Vivek showed pain behind tears of Kashmir, you will cry after watching this film!

The Kashmir Files Review : ‘बुद्धा इन ए ट्रैफिक जाम’ से निर्देशक के तौर पर विवेक अग्निहोत्री ने हिंदी सिनेमा में जो अलग-अलग लीक पकड़ी हैं, वह दिन-ब-दिन मोटी होती जा रही हैं। कौन सोच सकता है कि ‘चॉकलेट’ और ‘हेट स्टोरी’ बनाने वाले निर्देशक का हृदय परिवर्तन हो सकता है, लेकिन कहावत है ना कि देर आयद दुरुस्त आये, विवेक का मुद्दा भी ऐसा ही है।

विवेक ने अपनी आखिरी फिल्म ‘द ताशकंद फाइल्स’ से दुनिया भर के लोगों का ध्यान खींचा। तीन साल पहले यह फिल्म स्लीपर हिट रही थी। विवेक अब इसी फिल्म का डीएनए अपनी नई फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ में लेकर आए हैं।

पिछली बार उन्होंने इतिहास की संदिग्ध चादर से ढके पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की हत्या की हकीकत को बेनकाब करने की कोशिश की थी, इस बार उन्होंने कश्मीर की सबसे गंभीर समस्या का पर्दाफाश किया है।

जो सामने आता है वो अंदर से चौकाने वाला होता है. लोग कह सकते हैं कि फिल्म तकनीकी रूप से कमाल नहीं है, लेकिन फिल्म का कमाल सच है। सच तो यह है कि कश्मीर से बाहर आए तमाम निर्देशक भी बताने की हिम्मत नहीं दिखा पाए.

The Kashmir Files Review : ‘द कश्मीर फाइल्स’ ने बयां किया कश्मीरी पंडितों का दर्द, सदियों तक याद रखा जाएगा अनुपम खेर का अभिनय 

फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ एक तरह से इतिहास की उन ‘फाइलों’ को उलटने की कोशिश है, जिसमें भारत देश में हुए भीषण नरसंहारों के कारण सबसे बड़े पलायन की कहानी है।

कश्मीर पंडित शायद देश का एकमात्र समुदाय है जो आजादी के बाद अपने घर से बेदखल हुआ है और करोड़ों की आबादी वाले इस देश के किसी भी हिस्से में कोई हलचल नहीं हुई है।

कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक जहां बड़े-बड़े नेता बार-बार एकजुट होकर देश की ताकत भरते रहे हैं, वहां के हालात की यह बानगी किसी को भी कांपने पर मजबूर कर सकती है।

करीब 32 साल पहले शुरू हुई इस फिल्म की कहानी खुद एक ऐसे पल से शुरू होती है जो क्रिकेट के बहाने बड़ी बात कह जाती है. घाटी में जो हुआ वह दर्दनाक है। उन्हें स्क्रीन पर देखना और भी दर्दनाक है।

ये आतंक का ऐसा चेहरा है जिसे पूरी दुनिया को दिखाना बहुत जरूरी है. कहानी कहने में इसके डॉक्यूमेंट्री बनने का भी खतरा था, लेकिन सच्चाई लाने के लिए खतरों से खेलना पड़ता है।

सिनेमा के लिहाज से यह फिल्म ‘शिंडलर्स लिस्ट’ तक पहुंचने की कोशिश करती है। यहां का नरसंहार भले ही ऐसा न हो, लेकिन इसका भीषण और भीषण अहसास उससे कम नहीं है।

फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ पूरी तरह से विवेक अग्निहोत्री की फिल्म है। फिल्म की रिसर्च इतनी दमदार है कि एक बार फिल्म शुरू होने के बाद दर्शक अंत तक इससे बाहर नहीं निकल पाते।

क्रेडिट के अंत में, वह बस चुपचाप और चुपचाप खड़ा रहता है और यह महसूस नहीं करता है कि पूरा हॉल खड़ा है और एक निर्देशक के काम की सराहना कर रहा है।

शिकायत यह हो सकती है कि फिल्म को अपने विषय के लिए पर्याप्त कैनवास नहीं मिल सका और फिल्म तकनीकी रूप से बेहतर होनी चाहिए थी।

The Kashmir Files Movie Review : अनुपम खेर और मिथुन चक्रवर्ती की ये दमदार फिल्म, कमजोर दिलवालों के लिए फिल्म नहीं

लेकिन, जिन परिस्थितियों और बजट में यह फिल्म बनती दिख रही है, इस फिल्म से ऐसी कोई उम्मीद नहीं की जानी चाहिए।

इन दिनों सिनेमा की कड़वी सच्चाई यह है कि एक तेलुगु फिल्म का हिंदी संस्करण हिंदी फिल्म से ज्यादा स्क्रीन पर दिखाया जा रहा है। फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर कहीं भी शोर-शराबा नहीं हुआ।

रिलीज से पहले किसी भी तरह के हैशटैग को ट्रेंड करने में किसी बड़ी हस्ती का समर्थन नहीं है। यह फिल्म अपना प्रमोशन खुद करती है।

एक निर्देशक के रूप में विवेक अग्निहोत्री ने इस फिल्म में भावनाओं को बोया है और उस भावना को फिर से पाया है। उन्होंने चिनार जैसी हाई-एंड परीक्षा में उच्च अंकों के साथ पास किया है।

सिर्फ इसलिए कि उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करने वाले अभिनेताओं और तकनीशियनों ने फिल्म में एक सराहनीय काम किया है।

फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ को भी इसके कलाकारों के बेहतरीन अभिनय के लिए देखा जाना चाहिए। अनुपम खेर लंबे समय बाद अपने पूरे रंग में नजर आ रहे हैं।

वह जब भी पर्दे पर आते हैं तो दर्द की नदी की तरह फूट पड़ते हैं और दर्शकों को अपने साथ ले जाते हैं। फिल्म में उनकी एक्टिंग ऐसी है कि इसे देखने के बाद अगले साल का नेशनल फिल्म अवॉर्ड उन्हीं के नाम पर होना तय है।

अतीत को वर्तमान से जोड़ने का अद्भुत काम दर्शन कुमार ने किया है। इस दौरान उनके कैंपस भाषण और उनके हाव-भाव देखने लायक होते हैं।

चिन्मय मंडलेकर का अभिनय फिल्म की एक और मजबूत कड़ी है। तकनीकी रूप से फिल्म भले ही ज्यादा कमाल की न हो, लेकिन उदय सिंह मोहिले ने अपने कैमरे की मदद से फिल्म के दर्द को धीरे-धीरे रीसते दिखाने में कामयाबी हासिल की है।

फिल्म की अवधि इसकी सबसे कमजोर कड़ी है। फिल्म की अवधि को कम करके इसके प्रभाव को और बढ़ाया जा सकता है।

फिल्म का संगीत कश्मीर के लोगों से प्रेरणा लेता है और विवेक ने इसे हिंदी भाषी दर्शकों को समझाने के लिए कड़ी मेहनत की है।

हालांकि मुख्यधारा की फिल्म के लिए फिल्म का संगीत कमजोर है। लेकिन, इन सबके बावजूद फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ प्लॉट के मामले में इस साल की दमदार फिल्म साबित होती है।

Movie Review : द कश्मीर फाइल्स

  • कलाकार : दर्शन कुमार , मिथुन चक्रवर्ती , अनुपम खेर , पल्लवी जोशी , चिन्मय मांडलेकर और प्रकाश बेलवाडी
  • लेखक : सौरभ एम पांडे और विवेक अग्निहोत्री
  • निर्देशक : विवेक अग्निहोत्री
  • निर्माता : तेज नारायण अग्रवाल, अभिषेक अग्रवाल, पल्लवी जोशी और विवेक अग्निहोत्री

Also Read