Tomato Farming Business Idea : टमाटर की खेती कुछ ही महीनों में बन जाएगे लखपती, 3 गुना तक हो सकती है आमदनी!

106
Tomato Farming Business Idea: Tomato farming will become lakhpati in few months, income can be up to 3 times

Tomato Farming Business Idea: भारत में ज्यादातर लोग अभी भी खेती करके अपना जीवन यापन कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले अधिकांश लोग खेती करके अपना जीवन यापन कर रहे हैं।

लेकिन इसके बावजूद भारत के किसानों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। यहां कृषि को गैर-लाभकारी क्षेत्र माना जाता है। कृषि के नुकसान के कारण बड़ी संख्या में किसान अपना गांव छोड़कर शहर में काम करने को मजबूर हैं।

लेकिन कई फसलें ऐसी भी हैं जिनकी खेती अगर सही तरीके से की जाए तो किसान अमीर बन सकते हैं। टमाटर की फसल किसानों के लिए आय का अच्छा जरिया बन सकती है।

कितना कमाया जा सकता है?

अगर टमाटर की खेती सही तरीके से की जाए तो इससे अच्छी खासी कमाई हो सकती है। टमाटर एक हेक्टेयर भूमि में 800-1200 क्विंटल तक उपज सकता है। टमाटर कई प्रकार के होते हैं।

उत्पादन विभिन्न किस्मों के अनुसार भिन्न होता है। वैसे कई बार टमाटर के रेट ज्यादा नहीं बढ़ते हैं। लेकिन अगर टमाटर बाजार में औसतन 10 रुपये प्रति किलो के भाव से बिकता है और अगर आप औसतन 1000 क्विंटल निकाल लें तो 10 लाख रुपये तक की कमाई कर सकते हैं.

साल में दो बार की जाती है खेती

उत्तर भारत में इसकी खेती साल में दो बार की जा सकती है। एक जुलाई-अगस्त से शुरू होकर फरवरी-मार्च तक चलता है और दूसरा नवंबर-दिसंबर से शुरू होकर जून-जुलाई तक चलता है।

इसकी खेती के लिए आपको नर्सरी तैयार करनी होगी। एक महीने में टमाटर के पौधे तैयार हो जाते हैं। एक हेक्टेयर भूमि में लगभग 15,000 पौधे लगाए जा सकते हैं।

खेतों में रोपण के लगभग 2-3 महीने बाद फल लगने लगते हैं। टमाटर की फसल 9-10 महीने तक चलती है।

खेती के लिए किस प्रकार की मिट्टी की आवश्यकता होती है?

टमाटर की फसल को काली दोमट मिट्टी, बलुई दोमट मिट्टी और लाल दोमट मिट्टी में सफलतापूर्वक उगाया जा सकता है। वैसे दोमट मिट्टी टमाटर की खेती के लिए सबसे अच्छी मानी जाती है।

लेकिन हल्की मिट्टी में भी टमाटर की खेती अच्छी होती है। इसकी अच्छी उपज के लिए मिट्टी का पीएच मान 7 से 8.5 होना चाहिए।

कब करें सिंचाई

यदि आपने गर्मियों में टमाटर की फसल लगाई है तो 6 से 7 दिन के अंतराल पर सिंचाई करते रहना चाहिए। यदि आप सर्दियों में टमाटर की फसल ले रहे हैं।

तो 10-15 दिनों के अंतराल पर सिंचाई करना पर्याप्त है। टमाटर की अच्छी पैदावार के लिए समय-समय पर निराई-गुड़ाई करना आवश्यक है।

टमाटर की खेती की विधि

3-4 बार जुताई करके खेत को अच्छी तरह तैयार कर लें। पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करनी चाहिए। खेत की जुताई के बाद मिट्टी को 250-300 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से समतल करें।

सड़ी हुई खाद को खेत में समान रूप से फैला दें और फिर से अच्छी जुताई करें और खरपतवार को पूरी तरह हटा दें. इसके बाद टमाटर की पौध को 60 से 45 सेमी की दूरी पर रोपें।