What is Red Gold : लाल सोना: जानिए क्या है लाल सोना, कैसे होती है कमाई

161
What is Red Gold : लाल सोना: जानिए क्या है लाल सोना, कैसे होती है कमाई

What is Red Gold : आपने सोने और काले सोने के बारे में तो सुना ही होगा, लेकिन लाल सोने के बारे में शायद आप नहीं जानते होंगे। सोना केवल सोना है, जबकि काला सोना कच्चा कहा जाता है।

लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि एक ऐसी चीज होती है, जिसे लाल सोना कहते हैं। इसका कारण यह है कि सोने की तरह यह भी महंगा है और अच्छी कमाई करता है। अगर आप भी रेड गोल्ड से कमाई करने का इरादा रखते हैं, तो आप यहां पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

केसर की मांग ज्यादा और आपूर्ति कम

आम तौर पर, मांग और आपूर्ति का सूत्र व्यवसाय में लाभ निर्धारित करता है। लेकिन देश और दुनिया में केसर की मांग अधिक है और आपूर्ति बहुत कम है। यही कारण है कि इसकी खेती से हमेशा लाभ मिलता है।

इसी लाभ को देखते हुए इस लाल सोने को भी कहा जाता है। इस समय देश में केसर की कीमत 2.50 लाख रुपये से 3 लाख रुपये प्रति किलो के बीच है। यह दर केसर की गुणवत्ता के आधार पर तय की जाती है। इसे बिजनेस आइडिया के तौर पर लिया जा सकता है।

जानिए केसर की खेती कहीं भी की जा सकती है

समुद्र तल से 1500 मीटर से 2500 मीटर की ऊंचाई पर केसर की खेती के लिए अच्छा माना जाता है। केसर की खेती के लिए उचित धूप की आवश्यकता होती है।

वहीं दूसरी ओर ठंड और बरसात के मौसम में केसर की खेती नहीं की जाती है। जहां तक इसके बीजों की बात है तो इसके लिए 10 वॉल्व सीड्स का इस्तेमाल किया जाता है। इसकी कीमत करीब 550 रुपये है।

केसर की खेती के लिए जानिए कैसी मिट्टी चाहिए

केसर की खेती करने के लिए रेतीली, चिकनी, बलुई या फिर दोमट मिट्टी जरूरी होती है। हालांकि केसर की खेती को अन्य मिट्टी में भी आसानी से किया जा सकता है।

केसर के खेत में पानी का जमाव बिल्कुल नहीं होना चाहिए। अगर ऐसा होगा तो केसर की फसल बर्बाद हो सकती है। इसी लिए ऐसी जगह का चयन ज्यादा अच्छा माना जाता है, जहां पर पानी बिल्कुल ही न भरे।

केसर का खेत कैसे तैयार करें

केसर की बिजाई से पहले खेत की अच्छी तरह जुताई करना जरूरी है। इसके अलावा अंतिम जुताई से पहले मिट्टी को भुरभुरा बनाने के बाद गोबर की खाद 90 किलो नाइट्रोजन, 60 किलो फॉस्फोरस और पोटाश प्रति हेक्टेयर के साथ अपने खेत में डालें।

इससे केसर की फसल अच्छी होती है। उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में जुलाई से अगस्त तक केसर लगाने का सही समय माना जाता है, जबकि मध्य जुलाई का समय इसके लिए अच्छा होता है। वहीं मैदानी इलाकों में केसर की बुवाई फरवरी से मार्च के बीच करनी चाहिए.

जानिए कैसे होती है केसर से कमाई

केसर को अच्छी तरह से पैक करके नजदीकी मंडी में अच्छे दामों में बेचा जा सकता है। वहीं अगर आप केसर को ऑनलाइन बेच सकें तो और भी ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है। अगर कोई महीले में 2 किलो केसर भी तैयार करके बेच लेता है तो उसकी कमाई 6 लाख रुपये तक हो सकती है।