What is Surrogacy | सरोगेसी क्या है?, जानिए प्रकिया, खर्च, विवाद, लाभ और नुकसान !

203
The above article gave you enough idea about surrogacy and its pros and cons.

सरोगेसी क्या है : सरोगेसी एक ऐसा नाम है जिसे हमने सालों में कई बार सुना है। खासकर बॉलीवुड की कई हस्तियां और सेलेब्रिटी ऐसे हैं जो सरोगेसी के जरिए माता-पिता बने हैं।

जैसे कि शाहरुख खान, करण जौहर, शिल्पा शेट्टी, सनी लियोन, प्रियंका चोपड़ा, प्रीति जिंटा समेत बॉलीवुड की कई हस्तियां हैं, जिन्होंने सरोगेसी के जरिए बच्चों को जन्म दिया है।

सरोगेसी को लेकर अक्सर लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठते हैं। उदाहरण के लिए, सरोगेसी क्या है? (what is surrogacy) सरोगेसी का क्या अर्थ है? (what is the meaning of surrogacy), सरोगेसी से बच्चा कैसे पैदा होता है?, सरोगेसी से मां कैसे बनती है? (What is Surrogacy Technique?), सरोगेसी की लागत कितनी है? (How much does surrogacy cost?) और भारत में सरोगेसी से संबंधित कानून क्या है? (What is the law regarding surrogacy in India?) इस लेख में इन सारे सवालों के जवाब मिल जायेगे।

सरोगेसी क्या है? | what is surrogacy

सरोगेसी का मतलब है सरोगेसी यानी इस तकनीक में एक कपल अपना बच्चा पैदा करने के लिए एक महिला की कोख किराए पर लेता है। इस प्रक्रिया में जिस महिला की कोख किराए पर ली जाती है उसे सरोगेट मदर कहा जाता है।

इस प्रक्रिया में बच्चा चाहने वाले दंपति और सरोगेट मां के बीच एक समझौता किया जाता है। इस समझौते के तहत सरोगेट मां बच्चे को जन्म देगी और बच्चे के जन्म के बाद पूरा अधिकार उस दंपत्ति के पास होगा जिसमें सरोगेसी की गई है।

सरोगेसी क्यों जरूरी है? | Why is surrogacy necessary?

दोस्तों सरोगेसी कुछ खास वजहों से बहुत जरूरी हो जाती है। उदाहरण के लिए, यदि कोई दंपत्ति अपने स्वयं के बच्चे पैदा करने में सक्षम नहीं है, तो वे सरोगेसी का उपयोग कर सकते हैं।

अगर किसी महिला को गर्भवती होने का खतरा है, लेकिन वह बच्चा पैदा करना चाहती है, तो वह सरोगेसी का सहारा ले सकती है। या फिर अगर कोई महिला खुद बच्चा नहीं चाहती है तो वह सरोगेसी का सहारा लेती है।

सरोगेसी के प्रकार | Types of surrogacy

सरोगेसी मुख्यतः दो प्रकार की होती है। पहली पारंपरिक सरोगेसी और जेस्टेशनल सरोगेसी।
Type of surrogacy : Traditional surrogacy and gestational surrogacy.

ट्रेडिशनल सरोगेसी (Traditional surrogacy) : इस सरोगेसी में पिता या डोनर के स्पर्म को सरोगेट मदर के अंडों के साथ मिलाया जाता है।

इस प्रक्रिया में बच्चे की जैविक मां (Biological mother) सरोगेट मां होती है। हालांकि, इसमें बच्चे के जन्म के बाद उस पर पूरा अधिकार उस दंपत्ति का होता है, जिसने सरोगेसी करवाई है।

जेस्टेशनल सरोगेसी (Gestational surrogacy): इस सरोगेसी में पिता के शुक्राणु और मां के बीजअंडों (Father’s sperm and Mother’s ovules) को मिलाकर सरोगेट मां के गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जाता है।

इस प्रक्रिया में सरोगेट मदर ही बच्चे को जन्म देती है। इसमें बच्चे का सरोगेट मदर से किसी भी तरह से आनुवंशिक रूप से संबंध नहीं होता है। बच्चे की जैविक मां सरोगेसी करने वाली महिला होती है।

सरोगेसी के फायदे | Pros of surrogacy

1. आनुवंशिक रूप से संबंधित बच्चा हो सकता है

सरोगेसी उन माता-पिता के लिए एक वरदान है जो अपने बच्चे पैदा करना चाहते हैं लेकिन कुछ बांझपन या अक्षमताएं हैं। सरोगेसी के साथ, अब उनके पास वह जैविक बच्चा हो सकता है जिसका उन्होंने हमेशा सपना देखा है।

2. हर कदम में शामिल हों

सरोगेसी माता-पिता को अपने बच्चे के विकास के हर चरण (गर्भाधान के समय से) में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करती है।

3. अपने सरोगेट के साथ स्वस्थ संबंध बनाएं

सरोगेसी प्रक्रिया को चुनकर, आप अपने सरोगेट का चयन कर सकते हैं और उससे मिल सकते हैं। तो, आप अपने सरोगेट के साथ एक मजबूत रिश्ता बना सकते हैं। कुछ इच्छुक माता-पिता बच्चे के जन्म के बाद भी सरोगेट्स के साथ एक स्वस्थ मित्रता बनाए रखते हैं।

4. स्वस्थ गर्भावस्था

सरोगेसी में, आपको गर्भावस्था की शुरुआत से ही प्रसवपूर्व देखभाल में भाग लेने का अवसर मिलेगा। यह आपको आश्वस्त करेगा कि सरोगेट और आपके अजन्मे बच्चे दोनों को उचित चिकित्सा देखभाल और ध्यान मिल रहा है। तो, सरोगेसी एक स्वस्थ गर्भावस्था प्रदान करती है।

5. मन की शांति होना

सरोगेसी में हर दस्तावेज ठीक से लिखा होता है। इसलिए एक सरोगेट जानता है कि बच्चा उसका नहीं है, इसलिए वह बच्चे को नहीं रख सकती है। तो, प्रक्रिया के अंत में, आप आश्वस्त हो सकते हैं कि आपको बच्चा मिल जाएगा। यह आपको परम मानसिक शांति और मित्रता प्रदान करता है।

सरोगेसी के नुकसान | Disadvantages of surrogacy

आइए एक नजर डालते हैं सरोगेसी के कुछ नुकसानों पर

1. सरोगेसी की लागत

सरोगेसी की लागत काफी अधिक है। एक इच्छित माता-पिता के रूप में, आपको सरोगेसी पर लगभग 10 लाख खर्च करने की आवश्यकता है। इसलिए, सरोगेसी का विकल्प चुनने से पहले आपको आर्थिक रूप से मजबूत होना चाहिए।

2. जटिल चिकित्सा प्रक्रियाएं

यदि आप जेस्टेशनल सरोगेसी की तलाश में हैं, तो आपको भ्रूण बनाने के लिए आईवीएफ प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ सकता है। यह एक महंगी और जटिल प्रक्रिया है। हो सकता है पहली कोशिश में आपको सफलता न मिले।

यदि आप एक संभावित सरोगेट हैं

1. वित्तीय मुआवजा

कमर्शियल सरोगेसी में आपको लगभग रु. 5 लाख। आप इस पैसे का उपयोग अपने सपनों को पूरा करने के लिए कर सकते हैं।

2. इच्छित माता-पिता के साथ एक बंधन

यदि आप सरोगेट बनना चाहते हैं, तो आपको अपने इच्छित माता-पिता को चुनने का मौका मिलेगा। आप ऐसी दोस्ती बना सकते हैं जो बच्चे के जन्म के बाद भी बनी रहे।

3. एक जीवन बदलने वाला अनुभव

सरोगेट मदर बनकर आप एक परिवार की मदद कर रही हैं। आप यह जानकर संतोष और गर्व महसूस करते हैं कि आप किसी का जीवन बदल रहे हैं।

सरोगेसी के नुकसान | Disadvantages of surrogacy

  • सरोगेट मदर बनना बहुत मुश्किल है, इससे शारीरिक और भावनात्मक समस्याएं पैदा होती हैं।
  • कई बार महिलाओं को सरोगेट मदर बनने के लिए भी मजबूर किया जाता है।
  • सरोगेसी की प्रक्रिया काफी महंगी है।
  • कई बार गरीब महिलाओं की मजबूरी का फायदा उठाकर पैसे का लालच देकर सरोगेट मदर बनने को मजबूर हो जाती हैं।

Cons of surrogacy

1. समय की प्रतिबद्धता

चूंकि गर्भावस्था एक लंबी और समय लेने वाली प्रक्रिया है, इसलिए आपको अपना कुछ व्यक्तिगत समय छोड़ना होगा। हो सकता है कि आपको अपने परिवार के साथ बिताने के लिए ज्यादा समय न मिले।

2. आईवीएफ और गर्भावस्था का जोखिम:

किसी भी अन्य सर्जिकल प्रक्रिया की तरह, जन्म देते समय या भ्रूण स्थानांतरण के दौरान कुछ जोखिम होंगे।

3. भावनात्मक जटिलताएं

सरोगेट बनने के लिए आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि आप किसी और के बच्चे को नौ महीने से ले जा रहे हैं। तो, आपको यह समझना चाहिए कि सरोगेसी के दौरान आपको काफी तनाव मिलेगा। सरोगेसी तभी करें जब आप इन सभी तनावों और भावनाओं को स्वस्थ रूप से संभालने के लिए पर्याप्त आश्वस्त हों।

उपरोक्त लेख ने आपको सरोगेसी और इसके पेशेवरों और विपक्षों के बारे में पर्याप्त जानकारी दी।

सरोगेसी को लेकर विवाद | Controversies about surrogacy

कई बार बच्चे के जन्म के बाद सरोगेट मां सरोगेसी कराने वाले दंपत्ति को बच्चा देने से मना कर देती है। इसका कारण यह है कि सरोगेट मां बच्चे से भावनात्मक रूप से जुड़ जाती है।

कई बार ऐसा होता है कि बच्चा किसी विकलांगता या किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हो जाता है। ऐसे में सरोगेसी कर रहे दंपत्ति बच्चे को लेने से मना कर देते हैं।

कई अमीर परिवार की महिलाएं सिर्फ मां बनने के लिए सरोगेसी का सहारा लेती हैं क्योंकि वह खुद बच्चे को जन्म देकर अपना फिगर खराब नहीं करना चाहती हैं।

सरोगेसी की लागत कितनी है? | How much does surrogacy cost?

सरोगेसी की प्रक्रिया काफी महंगी है। इस प्रक्रिया में, अधिकांश सरोगेट माताओं को उसके गर्भ को किराए पर देने के बदले में पर्याप्त राशि का भुगतान किया जाता है। सरोगेसी प्रक्रिया में 15-20 लाख आसानी से खर्च हो जाते हैं।

भारत में सरोगेसी से संबंधित कानून | laws regarding surrogacy in india

आपको जानकर हैरानी होगी कि एक समय पूरी दुनिया में सरोगेसी के आधे से ज्यादा मामले भारत में ही थे। भारत में आज भी बड़ी संख्या में सरोगेसी होती है। इसका सबसे बड़ा कारण आर्थिक संकट है।

दरअसल, गरीब घर की महिलाएं पैसे की चाह में सरोगेट मदर बनने के लिए तैयार हो जाती हैं। सरोगेसी की यह प्रक्रिया करीब एक साल तक चलती है।

इस प्रक्रिया के बाद सरोगेट मदर को आसानी से 5-6 लाख रुपये मिल जाते हैं। इसके अलावा उन्हें साल भर अच्छा खाना दिया जाता है और उनका अच्छे से ख्याल भी रखा जाता है।

वहीं, भारत में सरोगेसी को लेकर कानून के बारे में आपको बता दें कि कुछ साल पहले तक भारत में सरोगेसी का गलत इस्तेमाल होता था। ऐसे में भारत में सरोगेसी को लेकर सरकार की ओर से सख्त नियम लागू किए गए थे।

इसके तहत सरकार ने कमर्शियल सरोगेसी पर पूरी तरह से रोक लगा दी है, यानी अब कोई भी महिला को पैसे का लालच देकर सरोगेट मदर नहीं बना सकता।

सरकार ने केवल निस्वार्थ सरोगेसी को मंजूरी दी है। यानी अब सरोगेसी पाने वाले दंपत्ति केवल गर्भावस्था के दौरान सरोगेट मां को भुगतान किए गए चिकित्सा खर्च को ही वहन करेंगे।

इसके अलावा सरोगेट मदर को अलग से कोई पैसा नहीं दिया जाएगा। यानी कोई महिला स्वेच्छा से बिना किसी लालच के सरोगेट मदर बन सकती है। इनके अलावा भारत में सरोगेसी को लेकर कई नियम हैं।

भारत में सिर्फ भारतीय ही सरोगेसी कर सकते हैं।

  1. सरोगेसी केवल वही जोड़े कर सकते हैं, जिनकी शादी को कम से कम 5 साल हो चुके हों।
  2. सरोगेसी के लिए पुरुष की उम्र 26 से 55 साल और महिला की उम्र 23 से 50 साल के बीच होनी चाहिए।
  3. अगर किसी दंपत्ति को पहले से ही बच्चा है तो वे सरोगेसी नहीं कर सकते।
  4. जो लोग अविवाहित, समलैंगिक, लिव-इन, सिंगल पेरेंट्स आदि हैं, वे सरोगेसी नहीं कर सकते।
  5. ऐसे जोड़े जो किसी बीमारी के कारण बच्चे को जन्म नहीं दे पाते हैं, वे सरोगेसी कर सकते हैं।
  6. सरोगेसी का उद्देश्य व्यावसायिक नहीं होना चाहिए।
  7. सरोगेट मदर का सरोगेसी करने वाले दंपत्ति के साथ घनिष्ठ संबंध होना चाहिए।
  8. सरोगेट मां का विवाह होना चाहिए और उसका अपना एक बच्चा होना चाहिए।
  9. सरोगेट मदर की उम्र 25 से 35 साल के बीच होनी चाहिए।
  10. एक महिला सिर्फ एक बार ही सरोगेट मदर बन सकती है।
  11. सरोगेट मदर के पास मेडिकल और साइकोलॉजिकल फिटनेस सर्टिफिकेट होना चाहिए।